स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार के तबादले के पीछे की कहानी जानिए

0

बिहार के स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार के अचानक तबादले को लेकर कयासों का बाजार गर्म है. हर कोई यही जानना चाहता है कि कोरोना संकट के दौरान संजय कुमार का तबादला क्यों हुआ? आखिर ऐसी कौन सी बात थी कि संजय कुमार को स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव पद से हटाना पड़ा. ऐसे में नालंदा लाइव ने सूबे की सियासी चाल पर नजर रखने वाले कई विशेषज्ञों और सत्ता के करीबियों से बात की। जिसमें कई बातें सामने आई

1. स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे से अनबन
बताया जाता है कि संजय कुमार की स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे से कभी भी नहीं बनती थी. सोशल मीडिया पर संजय कुमार जो कोविड-19 को लेकर जानकारियां साझा कर रहे थे और मंगल पांडे भी अपने लेवल पर जो जानकारियां साझा कर रहे थे उन दोनों जानकारियों में काफी असमानता थी. इसको लेकर भी बिहार सरकार की काफी किरकिरी हो रही थी.

2. बढ़ती लोकप्रियता खटक रहा था
कोविड-19 महामारी के दौरान भी मीडिया से जानकारियां साझा करने को लेकर संजय कुमार के काफी एक्टिव थे. महामारी को लेकर बारीक से बारीक जानकारियां भी संजय कुमार अपने निजी टि्वटर हैंडल के जरिए साझा किया करते थे. यह बात भी सरकार के बड़े आला अधिकारियों को खटक रही थी कि आखिर स्वास्थ्य विभाग के आधिकारिक ट्विटर हैंडल के जरिए जानकारियां साझा ना करके संजय कुमार अपने निजी टि्वटर हैंडल के जरिए जानकारियां क्यों साझा कर रहे थे? बता दें कि पिछले 1 महीने में संजय कुमार के टि्वटर फॉलोवर्स की संख्या में तकरीबन 30,000 की बढ़ोतरी हुई है.

3. पीएमसीएच के डॉक्टर को किया था सस्पेंड
कोविड-19 महामारी की शुरुआत के बाद संजय कुमार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की नजर में सबसे पहले तब चढ़ गए जब लॉकडाउन 1.0 के दौरान उन्होंने पीएमसीएच के माइक्रोबायोलॉजी डिपार्टमेंट के एचओडी डॉ. सत्येंद्र नारायण सिंह को सस्पेंड कर दिया था. डॉ. सत्येंद्र नारायण सिंह के खिलाफ आरोप था कि कोविड-19 के सैंपल टेस्टिंग में पीएमसीएच का माइक्रोबायोलॉजी विभाग काफी शिथिल था और जांच में तेजी नहीं आ पा रही थी. इसी को लेकर संजय कुमार ने डॉ. सत्येंद्र नारायण सिंह को निलंबित कर दिया. अंदर खाने की खबर ये है कि संजय कुमार की इस कार्रवाई से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार काफी नाराज थे और 5 दिन के अंदर ही डॉ सत्येंद्र नारायण सिंह का निलंबन राज्य सरकार ने रद्द कर दिया.

4. 362 डॉक्टरों को शो कॉज नोटिस जारी किया
इसके बाद संजय कुमार ने पूरे बिहार में 362 ऐसे डॉक्टरों की लिस्ट तैयार की थी जो कोविड-19 महामारी के दौरान अपनी ड्यूटी से नदारद थे. संजय कुमार ने इन सभी डॉक्टरों को शो कॉज नोटिस जारी किया था और इनके खिलाफ कार्रवाई करने के मूड में थे. बताया जाता है कि डॉक्टरों की यह लॉबी भी संजय कुमार को उनके पद से हटाने में काफी हावी रही.

5. रोजाना 10000 सैंपल टेस्टिंग नहीं होना!
कुछ दिनों में बिहार में जिस तरीके से कोविड-19 के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं उसको लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने स्वास्थ्य विभाग को रोजाना 10000 टेस्टिंग करने के निर्देश जारी किए थे, मगर इसके बावजूद भी रोजाना केवल 2500-2700 सैंपल की टेस्टिंग हो पा रही थी. इसको लेकर भी नीतीश कुमार काफी नाराज थे, क्योंकि हाल के दिनों में प्रवासी मजदूरों के बिहार लौटने के बाद से कोविड-19 मरीजों की संख्या में काफी वृद्धि हुई है.

पर्यटन विभाग की जिम्मेदारी संभाली
संजय कुमार को पर्यटन विभाग का प्रधान सचिव बनाया गया है। उन्होंने अपना पदभार भी ग्रहण कर लिया है । संजय कुमार 1990 बैच के आईएएस अफसर हैं.

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In पुलिस प्रशासन

Leave a Reply

Check Also

नालंदा में चलती स्कॉर्पियो में भीषण आग.. ड्राइवर की गलती से स्वाहा हुई गाड़ी

नालंदा जिला में चलती स्कॉर्पियो गाड़ी में भीषण आग लग गई। जिसके बाद सड़क पर कुछ देर के लिए …