Home खास खबरें सिलाव बवाल मामले में 34 गिरफ्तार

सिलाव बवाल मामले में 34 गिरफ्तार

0

सिलाव बाजार दंगा मामले में पुलिस ने अब तक 34 लोगों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपितों में दो महिलाएं भी शामिल हैं। उपद्रव करने के आरोप में 76 नामजद व 1700 अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गयी है।

दिनभर बंद रहा सिलाव बाजार:-

सिलाव बाजार दूसरे दिन गुरुवार को भी बंद रहा। आमलोगों ने विरोध में अपनी दुकानें बंद रखी। बुधवार को लोगों ने जुलूस में भाग लेने के लिए स्वत: ही अपनी दुकानें बंद रखी थी। हालांकि हंगामा होने के कारण शाम तक दुकानें नहीं खुली थी। स्थानीय लोगों में पुलिसिया कार्रवाई को लेकर रोष दिख रहा है। आम लोंगों का आरोप है कि पुलिस निर्दोष लोगों को फंसा रही है। कुछ लोगों ने कहा कि अगर उन्हें इंसाफ नहीं मिला तो बाजार बंद रहेगा।

क्या था मामला:-

कड़ाहडीह गांव से जुलूस निकाला गया था। हैदरगंज गांव में जुलूस के गुजरने के दौरान विवाद में पहले दो पक्ष आपस में भिड़ गये। बाद में प्रशासन व ग्रामीणों के बीच बवाल हुआ। जमकर पथराव व गोलीबारी हुई। पथराव में दर्जनभर पुलिसकर्मी भी जख्मी हुए थे। लोगों का कहना है कि लाठी चार्ज व पथराव में दर्जनों जख्मी हुए हैं। गिरफ्तारी के डर से घायल इधर-उधर इलाज करवाने में लगे हैं।

पहली बार बदल गयी थी प्रशासन और पुलिस की भूमिका:-

घटना स्थल पर मौजूद लोगों की माने तो प्रशासन के एक वरीय अधिकारी द्वारा गुस्सा दिखाने के बाद लोग आक्रोशित हुए और भगदड़ की स्थिति पैदा हुई। इस घटना के बाद पुलिस के कुछ पदाधिकारी लोगों से शांत रहने की अपील करते दिखे। प्रशासन और पुलिस की भूमिका बदल गयी थी। एक अधिकारी तो हाथ जोड़कर लोगों को वापस लौटने के लिए कह रहे थे। कार्रवाई को लेकर अधिकारी व जवानों के बीच भी मतभेद हो गया। कई जवान अधिकारियों की कार्रवाई को गलत ठहरा रहे थे। वरीय अधिकारियों के समझाने के बाद जवान शांत हुए। स्थानीय बुद्धिजीवियों की माने तो प्रशासन अगर थोड़ी संयम से काम लेता तो मामला इतना आगे नहीं बढ़ता।

विधानसभा में उठायेंगे मामला-विधायक

बिहारशरीफ के विधायक डॉ. सुनील कुमार ने सिलाव कांड की निंदा की है। उन्होंने कहा कि गुरुवार को उन्होंने जिले की विभिन्न घटनाओं की जानकारी ली है। पुलिस व प्रशासन के अधिकारियों की लापरवाही से बार-बार जिले में स्थिति बिगड़ रही है। इस बात को वे विधानसभा में उठायेंगे और वर्षों से जमे अधिकारियों को बदलने की मांग करेंगे। इस विषय पर वह व्यक्तिगत रूप से सीएम से मिलकर उन्हें जनकारी देंगे।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In खास खबरें

Leave a Reply

Check Also

पावापुरी मेडिकल कॉलेज के डॉक्टर सस्पेंड.. जानिए क्यों ?

पावापुरी मेडिकल कॉलेज में चार दिनों से चलता आ रहा बवाल आखिरकार थम गया. विम्स अस्पताल के आर…