Home राजनीति चिराग पासवान का मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर सीधा हमला… कर दी राष्ट्रपति शासन की मांग

चिराग पासवान का मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर सीधा हमला… कर दी राष्ट्रपति शासन की मांग

0

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर चिराग पासवान लगातार हमलावर हैं. चिराग पासवान ने इस बार नीतीश कुमार पर सीधा सीधा हमला किया है. चिराग पासवान ने साफ साफ कहा है कि बिहार में अब किसी एक व्यक्ति का एजेंडा नहीं चलने वाला है. साथ ही राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग कर दी है.

चिराग का नीतीश पर पहला हमला
अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस को दिए इंटरव्यू में चिराग पासवान ने सीएम नीतीश पर सीधा हमला किया है. चिराग पासवान ने कॉमन मिनिमम प्रोग्राम की बात करते हुए कहा कि अब किसी एक व्यक्ति का एजेंडा नहीं चलेगा. बल्कि कॉमन मिनिमम प्रोग्राम के आधार पर ही सरकार बनेगी और चलेगी.

चिराग पासवान का दूसरा हमला
चिराग पासवान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के महत्वाकांक्षी सात निश्चय कार्यक्रम पर भी सवाल उठाया और कहा कि ये उनका व्यक्तिगत एजेंडा हो सकता है ये ना तो एनडीए का है और ना ही एलजेपी का है. बल्कि ये वो एजेंडा है जिसे आरजेडी, जेडीयू और कांग्रेस ने मिलकर बनाया था. यही मेरे लिए चिंता का कारण है. मैं अपना एजेंडा चाहता हूं जो एनडीए का एजेंडा हो. हालत तो ये है कि बिहार में एनडीए की सरकार है और केंद्र सरकार के CAA-NRC के फैसले के खिलाफ नीतीश कुमार ने विधानसभा से प्रस्ताव पास करा लिया. चिराग पासवान ने कहा कि वे ऐसी किसी सरकार में क्यों शामिल होंगे जिसमें उनके एजेंडे का नोटिस ही नहीं लिया जाये या उनकी उपेक्षा की जाये.

चिराग का नीतीश पर तीसरा हमला
चिराग पासवान ने कहा कि वैसे तो बिहार में चुनाव कराने को लेकर आखिरी फैसला चुनाव आयोग को लेना है लेकिन एक जिम्मेदार पार्टी होने के नाते वे आयोग को जमीनी हकीकत से अवगत करा रहे हैं. चिराग ने कहा कि उन्होंने चुनाव आयोग को लिख कर दे दिया है कि वे बिहार के करोड़ों लोगों को खतरे में नहीं डाल सकते. चुनाव होगा तो उससे पहले चुनाव प्रचार होगा. सोशल डिस्टेंसिंग के बीच चुनाव प्रचार, रैली, नुक्कड सभा कैसे होगा ये मेरी समझ से परे की बात है. हर जन प्रतिनिधि जनता से मिलना चाहेगा, इसके लिए सभा-रैलियां होंगी और फिर बड़ी आबादी कोरोना के संकट में फंसेगी. चिराग ने कहा कि आप जान बूझ कर लोगों को मौत के मुंह में नहीं डाल सकते.

हमने BJP को सब बता दिया है
चिराग पासवान ने कहा कि चुनाव को लेकर उनकी बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से बात हुई है. उन्होंने नड्डा जी को बता दिया है कि बिहार में अभी चुनाव कराने के लिए सही वक्त नहीं है. हमने बीजेपी को चुनाव को लेकर एलजेपी के स्टैंड से रूबरू करा दिया है.

हमें कमजोर समझने की भूल न करें
चिराग पासवान ने कहा कि कोई ऐसा नहीं समझे कि हम चुनाव से भाग रहे हैं. मैं साफ साफ बता देना चाहता हूं कि लोक जनशक्ति पार्टी बिहार की सभी यानि 243 सीटों पर चुनाव के लिए पूरी तरह तैयार है. लेकिन हमारी जनता के प्रति जिम्मेवारी भी है. हम सिर्फ चुनाव लड़ने के लिए नहीं हैं बल्कि जनता की रक्षा करने की जिम्मेवारी भी हमारी ही है.

वर्चुअल प्रचार संभव ही नहीं
चिराग पासवान ने कहा कि वर्चुअल प्रचार की बात बिहार के करोडो गरीबों के साथ भद्दा मजाक होगा. बिहार के कितने लोग वर्चुअल माध्यम से जुड़े हैं. अगर कोई वर्चुअल प्रचार कर चुनाव कराने की बात करता है तो उसे ये आंकड़ा देना चाहिये. कितने लोगों के पास इंटरनेट है, कितने लोग इस टेक्नोलॉजी को समझते हैं.

विधायक नहीं समझते वर्चुअल प्रचार
चिराग पासवान ने कहा कि बिहार सरकार ने अभी कोरोना की स्थिति की जानकारी देने के लिए सभी जिलों को जनप्रतिनिधियों के साथ वर्चुअल मीटिंग करने का निर्देश दिया है. ऐसी ही एक वर्चुअल मीटिंग जमुई में हुई. मैं तो सांसद के तौर पर मौजूद था लेकिन जमुई जिले के चार में से सिर्फ एक विधायक उसमें शामिल हुए. मैंने जब डीएम से पूछा कि तीन विधायक क्यों नहीं हैं तो डीएम ने कहा कि संभवतः विधायक इस टेक्नोलॉजी से सही से अवगत नहीं हैं इसलिए वे वर्चुअल मीटिंग में शामिल नहीं हो पाये.

राष्ट्रपति शासन क्यों नहीं लग सकता
चिराग पासवान ने कहा कि संसद का सत्र होना है. दोनों सदन मिलाकर उसमें तकरीबन 800 सांसदों को भाग लेना है. उसके लिए ढेर सारे एहतियात बरते जा रहे हैं. हम लोगों के साथ भेदभाव नहीं कर सकते. सांसद कोरोना से बचाव के लिए सुरक्षा के घेरे में रहें और लोगों को खतरे में डाल दें, ये सही नहीं है. जनता की सुरक्षा सोंच कर ही तो चुनाव आयोग ने बिहार में उप चुनाव टाल दिया है. ऐसी क्या परेशानी है कि बिहार में 6 महीने के लिए राष्ट्रपति शासन लगाकर चुनाव नहीं टाला जा सकता है. जनता के हित के लिए ये किया जाना चाहिये.

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In राजनीति

Leave a Reply

Check Also

नागिन का बदला पूरा.. नालंदा में सांप डंसने से सपेरे की मौत !

सांप देखना और पकड़ना रोमांचकारी तो होता है. लेकिन ये मौत के साथ खेलने के समान होता है.. कभ…