Home खास खबरें शिक्षक भर्ती घोटाला- नालंदा जिला में कहां से कितने फोल्डर गायब.. जानिए

शिक्षक भर्ती घोटाला- नालंदा जिला में कहां से कितने फोल्डर गायब.. जानिए

0

नालंदा जिला में शिक्षकों की भर्ती में गड़बड़ी की बातें सामने आ रही है । कई शिक्षकों के नियोजन का फोल्डर गायब है । जिसके बाद शिक्षा विभाग ने कड़ा कदम उठाया है। शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव ने एक सप्ताह के अंदर फोल्डर जमा नहीं करने वाले नियोजन इकाइयों पर केस दर्ज करने का आदेश दिया है। प्रधान सचिव ने कहा कि जिन प्रखंड नियोजन इकाइयों में फर्जीवाड़ा की गई है वहीं का फोल्डर नहीं दिया जा रहा है।

सबसे खस्ता हाल पंचायत सचिवों की, नहीं के बराबर जमा हुआ है फोल्डर : बैठक में रिपोर्ट के अनुसार पंचायत सचिवों ने बहुत कम ही फोल्डर जमा किया है। सबसे पीछे सरमेरा, थरथरी, बेन और चंडी प्रखंड है।
कितने फोल्डर हुए जमा
प्रखंड        शिक्षक   उपलब्ध फोल्डर
बिहारशरीफ     229     227
अस्थावां          269     256
बिन्द           133          105
सरमेरा      204          147
रहुई          315           179
गिरियक   249           246
कतरीसराय  121        116
राजगीर  159            149
सिलाव  310           280
बेन      231            178
इसलामपुर   292   134
एकंगरसराय  272  176
परबलपुर 154     83
हिलसा    250      197
करायपरशुराय 140  120
नगरनौसा  195        115
चंडी         271        78
नूरसराय 273         269
हरनौत 315          295
किस पंचायत में कितने फोल्डर हुए जमा
बिहारशरीफ के सभी पंचायतों से 269 में 256 जमा, अस्थावां में 249 में 200, सरमेरा में 156 में 13, रहुई में 192 में 68, गिरियक में 193 में 185, कतरीसराय में 98 में 68, राजगीर में 246 में 160, सिलाव के 285 में से 140, बेन में 192 में 15, इस्लामपुर में 295 में 164, एकंगरसराय में 344 में 168, परबलपुर में 156 में 107, हिलसा में 240 में 197, करायपरशुराय में 136 में 30, नगरनौसा में 159 से 108, चंडी में 277 में 33, थरथरी में 162 में 23, नूरसराय में 273 में से 149 व हरनौत के 290 में से 262 पंचायत शिक्षकों के फोल्डर जमा किए गए हैं।
फोल्डर जमा नहीं करने वाले पर होगी कार्रवाई
शिक्षकों पर एफआईआर होने की खबर से ही शिक्षा महकमे में हड़कंप मच गया है। अब पंचायतों के मुखिया के साथ ही वहां के पंचायत सचिवों पर कार्रवाई की तैयारी की जा रही है। इन पर आरोप है कि बहाल किये गये शिक्षकों के फोल्डर विजिलेंस की जांच टीम के पास जमा नहीं कराया है। विजिलेंस की टीम प्रथम दृष्टया यह मान रही है कि बहाली में फर्जीवाड़ा की गई है।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In खास खबरें

Leave a Reply

Check Also

नालंदा में होटल मालिक और ठेकेदार की फिल्मी स्टाइल में हत्या.. जानिए पूरा मामला

नालंदा जिला में अपराधियों ने बड़ी वारदात को अंजाम दिया है. बाइक सवार चार बदमाशों ने गोली म…