Home काम की बात आप भी सस्ते में अपनी छत पर लगाएं सोलर प्लांट.. सरकार दे रही है बड़ा अनुदान

आप भी सस्ते में अपनी छत पर लगाएं सोलर प्लांट.. सरकार दे रही है बड़ा अनुदान

0

अगर आप भी अपने घर या जमीन पर सोलर प्लांट लगवाना चाहते हैं तो आपके लिए अच्छी खबर है. क्योंकि सरकार सोलर प्लांट लगाने के लिए 65 फीसदी तक अनुदान दे रही है. यानि समझिए की अगर प्लांट लगाने में 100 रुपए का खर्च आता है तो 65 रुपए सरकार देगी और 35 रुपए आपको देने होंगे.

कितना आता है खर्च
बिजली कंपनी के अनुसार घरों की छतों पर एक से तीन किलोवाट तक के सोलर प्लांट की अनुमानित लागत करीब 49 हजार 710 रुपये प्रति किलोवाट है. इसपर सरकार 65 फीसदी अनुदान देगी और 35 फीसदी लागत उपभोक्ता को वहन करना होगा. वहीं तीन से 10 किलोवाट तक सोलर प्लांट की लागत करीब 49 हजार 710 रुपये प्रति किलोवाट है. इस पर सरकार 45 फीसदी अनुदान देगी और 55 फीसदी लागत उपभोक्ता को वहन करना होगा.

हाउसिंग सोसाइटी में प्लांट की लागत
बिजली कंपनी के अनुसार एक से 10 किलोवाट तक के प्लांट की लागत करीब 49 हजार 710 रुपये प्रति किलोवाट है. इसपर सरकारी अनुदान 45 फीसदी मिलेगा और 55 फीसदी लागत उपभोक्ता को वहन करना होगा. वहीं 10 से 500 किलोवाट तक प्लांट की अनुमानित लागत 46 हजार 210 रुपये है. इस पर सरकारी अनुदान 45 फीसदी मिलेगा और उपभोक्ता को 55 फीसदी लागत वहन करना होगा.

तीन साल में हो सकती है खर्च की वापसी
एक किलोवाट क्षमता का सोलर प्लांट लगाने पर करीब 49 हजार 710 रुपये लागत आयेगी. इस पर सरकार का अनुदान 65 फीसदी यानी 32 हजार 310 रुपये मिलेगा. उपभोक्ता को 35 फीसदी लागत यानी 17 हजार 400 रुपये वहन करना होगा. इस एक किलोवाट से सालाना औसतन बिजली का उत्पादन 1490 यूनिट होगा. ऐसे में औसतन सालाना बिजली बिल में कमी करीब 6989 रुपये की होगी. ऐसे में इस प्लांट के लिए खर्च किये गये 17 हजार 400 रुपये की वसूली ढाई साल में ही हो जायेगी. यह प्लांट 25 साल तक काम करेगा. इस तरह एक लाख 57 हजार 326 रुपये का लाभ होगा.

सोलर प्लांट लगवाने के लिए क्या करना होगा
इसके लिए नॉर्थ बिहार पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी लिमिटेड (एनबीपीडीसीएल) और साउथ बिहार पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी लिमिटेड (एसबीपीडीसीएल) की वेबसाइट पर जाकर रजिस्ट्रेशन करना होगा. ये पहले आओ पहले पाओ की नीति के आधार पर दी जा रही है. बिजली कंपनी के अनुसार चयनित एजेंसी के माध्यम से रूफटॉप सोलर पावर प्लांट निजी परिसरों में लगाये जायेंगे. इस प्लांट के पांच साल तक रखरखाव की नि:शुल्क जिम्मेवारी संबंधित एजेंसी की ही होगी. सामान्य तौर पर सोलर पैनल की आयु 25 वर्ष होती है.

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In काम की बात

Leave a Reply

Check Also

बिहार विधानसभा अध्यक्ष के नाम पर लगी मुहर, नंदकिशोर यादव का कट गया पत्ता !

बिहार विधानसभा का अगला अध्यक्ष कौन होगा ? क्या नंद किशोर यादव को बनाया जाएगा अध्यक्ष? या ज…