छत पर करें बागवानी… सरकार दे रही है 75 प्रतिशत अनुदान.. जानिए क्या करना होगा?

0

अगर आपको बागवानी का शौक है । पैसे और जमीन नहीं है. तो चिंता की कोई बात नहीं है । क्योंकि अब बिहार सरकार छत पर बागवानी करने के लिए अनुदान दे रही है । बिहार सरकार ने इस साल अनुदान राशि बढ़ा दी है । मतलब ये कि अगर आप शहर में रहते हैं और बागवानी करना चाहते हैं तो आपके लिए खुशखबरी है । क्योंकि बिहार सरकार में अब शहरों में लोगों को सब्जियों की बागवानी करने के लिए प्रेरित कर रही है । ताकि घर पर ही सस्ती और ताजी सब्जियां और फल मिल सके ।

75 प्रतिशत का अनुदान
बिहार सरकार छत पर बागवानी योजना (Chhat Par Bagwani Yojana) चला रही है । जिसे टेरेस फार्मिंग (Terrace Farming) भी कहते हैं । इसके लिए सरकार 75 प्रतिशत तक अनुदान दे रही है । इसमें आप अपने घरों की छत पर फल-सब्जी या कोई औषधीय पौधा भी लगा सकते हैं । मतलब आम के आम गुठली के दाम.. सिर्फ फायदा ही फायदा है।

25 प्रतिशत का इजाफा
आपको बता दें बिहार सरकार ने शहरी क्षेत्र में सब्जी, फल और हर्बल प्लांट्स की गार्डनिंग को बढ़ाना देने के लिए साल 2019 में ही टेरेस फार्मिंग सब्सिडी योजना (Subsidy for Terrace Gardening) शुरू की थी ।कृषि निदेशालय पहले इस पर 50 प्रतिशत का ही अनुदान देती थी । जिसे अब बढ़ाकर 75 प्रतिशत कर दिया गया है।

छत पर बागवानी की शर्त
टेरेस फार्मिंग के लिए बिहार सरकार ने कुछ शर्तें भी रखी है । इसके लिए आवेदक के पास अपना घर हो अथवा अपार्टमेंट में फ्लैट हो अथवा शैक्षणिक संस्थान या किसी भी तरह के अन्य संस्थान जिसके छत पर 300 वर्ग फीट जगह हो, वे इस योजना का लाभ ले सकते है। अगर आपका अपना मकान है और छत पर 300 वर्ग फीट जगह खाली है तो इसका नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट आपको जमा करना होगा ।

महिलाओं के लिए रामबाण है अश्वगंधा.. जानिए क्या क्या हैं फायदे

कितना का अनुदान
300 वर्ग फीट में छत पर बागवानी की लागत 50 हजार रुपए रखी गई है । जिसके लिए 75% अनुदान यानि 37 हजार 500 रुपए सरकार अनुदान के तौर पर देगी । बाकि 12 हजार 500 रुपए आवेदक को खुद लगाना होगा ।गमले की योजना के तहत इकाई की लागत 10 हजार रुपए है जिसमें 7500 रुपए का अनुदान दिया जाएगा बाकी 2500 रुपए का भुगतान लाभार्थी को करना होगा । मतलब अगर आपके पास छत पर 600 वर्गमीटर खुली हुई जगह है तो आप दो ईकाई के लिए आवेदन कर सकते हैं । मतलब आप 75 हजार रुपए अनुदान के तौर पर उठा सकते हैं । वहीं अगर आप अपार्टमेंट या किसी शिक्षण संस्थान की छत पर बागवानी करना चाहते हैं तो आप 5 ईकाई का उपयोग कर सकते हैं । यानि आप 1 लाख 87 हजार 500 रुपए का अनुदान पा सकते हैं ।

बिहार में बनेगा 445 किलोमीटर लंबा अश्वगंधा कॉरिडोर.. जानिए कहां से कहां तक बनेगा 

कैसे करें आवेदन
अगर आप भी बिहार में रहते हैं और छत पर बागवानी करने लिए सरकारी अनुदान का लाभ लेना चाहते हैं तो इसके लिए आपको बिहार बागवानी विभाग की ऑफिशियल वेबसाइट www.horticulture.bihar.gov.in पर क्लिक करना होगा.यहां Dashboard पर ‘छत पर बागवानी’ के आवेदन लिंक पर क्लिक करें और फॉर्म भरकर अपने डॉक्यूमेंट्स अपलोड कर सकते हैं. जिसमें आपको फोटोयुक्त पहचान पत्र,पासपोर्ट साइज फोटो, बिजली बिल या नगरपालिका की रसीद, और खाली छत का फोटो अपलोड करना होगा।

बिहार को मिली एक और फोरलेन की सौगात.. जानिए, कहां से कहां तक बनेगा फोरलेन

कैसे मिलेगा पैसा
इसके लिए आवेदन करने के उपरांत प्राप्त रसीद पर लाभुक को अपने अंश की राशि 12,500/- रूपये प्रति इकाई(300 वर्ग फीट) बैंक खाता में जमा करना होगा। फिर उसकी विवरणी विभाग को देना होगा । जिसके बाद अनुदान की राशि निर्गत की जाएगी ।

कौन से पौधे उगाने के लिए मिलेंगे पैसे
बिहार सरकार की ओर से जारी नोटिफिकेशन के मुताबिक जिन सब्जी, फल और औषधीय पौधे लगाकर छत पर बागवानी की जा सकती है. उसमें बैंगन, टमाटर, मिर्च, गोभी, गाजर, मूली, भिंडी, पत्तेदार सब्जी और कद्दूवर्गीय सब्जियां हैं । फलों में अमरूद, कागजी नींबू, पपीता-रेड लेडी, आम्रपाली आम, अनार और अंजीर के प्लांट्स लगाए जा सकते हैं. औषधीय पौधों में भी धृत कुमारी, करी पत्ता, वसाका, लेमन ग्रास और अश्वगंधा की गार्डनिंग करने पर छत पर बागवानी स्कीम का लाभ दिया जाएगा.

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In काम की बात

Leave a Reply

Check Also

बिहार में महागठबंधन को एक और बड़ा झटका.. एक और विधायक का विकेट गिरा.. जानिए पूरा मामला

बिहार में महागठबंधन को एक और बड़ा झटका लगा है । पहले स्पीकर की कुर्सी गई.. फिर फ्लोर टेस्ट…