Home खास खबरें बिहार चुनाव से पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को सुप्रीम कोर्ट से बड़ा झटका

बिहार चुनाव से पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को सुप्रीम कोर्ट से बड़ा झटका

0

बिहार विधानसभा चुनाव से पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को सुप्रीम कोर्ट से बड़ा झटका लगा है. सुप्रीम कोर्ट ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के उस आलीशान प्रोजेक्ट पर रोक लगा दी है. जिसका उद्घाटन उन्होंने तीन दिन पहले किया था.

क्या है पूरा मामला
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने तीन दिन पहले यानि 16 सितंबर को पटना में कलेक्ट्रेट भवन का शिलान्यास किया था। इसे दो साल में पूरा करने का भी लक्ष्य था। लेकिन, अचानक सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद इस प्रोजेक्ट पर ग्रहण लग गया।

सुप्रीम कोर्ट में लगी है याचिका
कलेक्ट्रेट हेरिटेज बिल्डिंग है या नहीं इसको लेकर पटना हाईकोर्ट में पिछले एक साल से मामला चल रहा था। पटना हाईकोर्ट के निर्देश पर बिहार सरकार के कला संस्कृति विभाग ने एक कमीशन का गठन किया था। कमीशन ने पूरे मामले की जांच की। जांच के बाद अपनी रिपोर्ट में कमीशन ने दावे को खारिज कर दिया। इसके बाद हाईकोर्ट ने कलेक्ट्रेट के निर्माण की इजाजत दे दी।

हाईकोर्ट के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील
हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ इनटैक्ट संस्था सुप्रीम कोर्ट पहुंची। जिसके बाद कोर्ट ने यथास्थिति बनाए रखने को कहा है. यानि जब तक सुप्रीम कोर्ट का फैसला नहीं आ जाता तब तक 250 साल पुरानी इमारत को नहीं तोड़ा जाएगा.सुप्रीम कोर्ट ने बिहार सरकार से दो हफ्तों में उसका जवाब मांगा है। चीफ जस्टिस एस ए बोबड़े न्यायमूर्ति ए एस बोपन्ना और न्यायमूर्ति वी रामसुब्रमण्यन की पीठ ने आदेश में कहा कि दो हफ्तों के अंदर जवाब देने के लिये नोटिस जारी किया जाता है। इस बीच विवादित इमारत को लेकर पक्षकारों द्वारा यथास्थिति बरकरार रखी जाएगी।”

याचिकाकर्ता ने क्या कहा
दरअसल, याचिकाकर्ता ने सुप्रीम कोर्ट को कहा कि डच-कालीन और ब्रिटिश-कालीन इमारतों वाला यह परिसर ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण है और इसे “इतिहास के प्रतीक” के तौर पर संरक्षित रखा जाना चाहिए। 2016 में डच राजदूत ने भी भारत और नीदरलैंड की इस “साझा विरासत” को संरक्षित रखने का अनुरोध किया था। इसके कुछ हिस्सों का इस्तेमाल अफीम और विस्फोटक रखने के लिये भी किया जाता था। गंगा नदी के किनारे स्थित इस परिसर के कुछ हिस्से 250 सालों से भी ज्यादा पुराने हैं।

153.53 करोड़ की परियोजना पर ग्रहण
16 सितंबर को सीएम नीतीश कुमार ने अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस पटना कलेक्ट्रेट भवन का शिलान्यास किया था. जो आधुनिक और हाईटेक होगा. कलेक्ट्रेट का मुख्य भवन 5 मंजिला होगा. इसी मुख्य भवन में डीएम ऑफिस समेत 39 विभागों का दफ्तर बनाने की योजना थी. इसके आस पास दो और 4 मंजिला भवन बनाए जाएंगे. मुख्य भवन में एक बेसमेंट होगा जिसमें आधुनिक ढंग से पार्किंग की व्यवस्था होगी. इसमें अधिकारियों से लेकर वहां आने वाले आम लोगों को भी गाड़ी पार्किंग की सुविधा मिलेगी. इसके अलावा इस भवन को खास बनाता है इसके खिड़कियों से गंगा का नजारा. भवन के उत्तर दिशा में गंगा दिखेंगी. इसके साथ ही भवन में लाइब्रेरी, वॉर रूम, कॉन्फ्रेंस हॉल और वीआईपी रूम की व्यवस्था होगी.

कौन से कार्यलय कहां होगा नए भवन में-
1. ग्राउंड फ्लोर- ट्रेजरी, कल्याण अनुभाग और लोक शिकायत अनुभाग, स्ट्रांग रूम, एडीएम कार्यालय
2. पहली मंजिल – नजारत, आईसीडीएस, सामाजिक सुरक्षा,चुनाव, हथियार, सामान्य, आपूर्ति, एसएफसी, अल्पसंख्यक कल्याण, उर्दू
3. दूसरी मंजिल- राजस्व, प्रमाण पत्र, खाता, खनन, आपदा प्रबंधन, योजना, नागरिक सुरक्षा, पीएफ, भूमि अधिग्रहण
4. तीसरी मंजिल- DRDA, कानूनी, DUDA, पंचायत, विकास, रिकॉर्ड कक्ष, अभिलेखागार, सम्मेलन हॉल,प्रोटोकॉल, सार्वजनिक संबंध
5. चौथी मंजिल-स्टोर, कार्यालयों के लिए स्थान आवंटन
6. पांचवीं मंजिल- डीएम कक्ष, डीएम कोर्ट, कॉन्फ्रेंस हॉल, सिटी मजिस्ट्रेट,वॉर रूम, वीसी, एनआईसी,लाइब्रेरी, वीआईपी रूम

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In खास खबरें

Leave a Reply

Check Also

चुनाव प्रचार के दौरान उम्मीदवार को गोलियों से भून डाला.. जानिए पूरा मामला

बिहार विधानसभा चुनाव में खून खराबे का दौर शुरू हो गया है. चुनाव प्रचार के दौरान बदमाशों ने…