Home खास खबरें नालंदा में एक और बड़ा नेता कांग्रेस में शामिल

नालंदा में एक और बड़ा नेता कांग्रेस में शामिल

0

नालंदा जिला में कांग्रेस अपने जनाधार को दिनोंदिन मजबूत करने में जुटी है। इसके लिए नालंदा जिला कांग्रेस के अध्यक्ष दिलीप कुमार दिन रात मेहनत कर रहे हैं। जिलाध्यक्ष दिलीप कुमार की अगुवाई में पहले आरजेडी के पूर्व विधायक पप्पू खान ने कांग्रेस का दामन थामा। इसी कड़ी में अब पूर्व जिलापरिषद अध्यक्ष तनुजा कुमारी अपने समर्थकों के साथ कांग्रेस में शामिल हो गई हैं।

सदानंद सिंह ने बांधे तारीफों के पुल
पटना में सदाकत आश्रम आयोजित मिलन समारोह में तनुजा कुमारी ने कांग्रेस का दामन थामा। इस मौके पर कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा, विधायक दल के नेता सदानंद सिंह और नालंदा कांग्रेस के अध्यक्ष दिलीप कुमार मौजूद थे। कांग्रेस नेता सदानंद सिंह ने कहा कि तनूजा कुमारी की नालंदा में काफी मजबूत पकड़ है। वे जिलापरिषद की अभी हाल तक अध्यक्ष थीं,लेकिन सरकार ने जानबूझकर उन्हें कुर्सी से हटा दिया।

इसे भी पढ़िए-इनसाइड स्टोरी- जिला परिषद अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव मामले में चौंकाने वाला खुलासा

इशारों में श्रवण कुमार पर निशाना साधा
नालंदा के विधायक और ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार पर इशारों में निशाना साधा। सदानंद सिंह ने कहा कि तनुजा देवी को जिला परिषद अध्यक्ष पद से हटाने में जिले के एक मंत्री की भूमिका है। उन्होंने कहा कि मंत्री इशारे पर ही सरकारी मशीनरी ने जानबूझकर तनुजा कुमारी को जिलापरिषद अध्यक्ष पद से हटवाने मे भूमिका निभाई।

चुनाव लड़ना प्राथमिकता नहीं
कांग्रेस की सदस्यता लेने के बाद नालंदा की पूर्व जिलापरिषद अध्यक्ष तनूजा कुमारी ने कहा कि पार्टी जो भी जिम्मेदारी देगी उसका निर्वहन करेंगी। जब उनसे पूछा गया कि आप लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस में शामिल हो रहीं है ऐसे में आपका मकसद टिकट पाना और चुनाव लड़ना तो नहीं है? जिसके जवाब में तनुजा कुमारी ने कहा कि उनका चुनाव लड़ना प्राथमिकता नहीं है और नहीं वो टिकट के लिए कांग्रेस में शामिल हुई हैं। उनका मकसद संगठन को मजबूत करना है ।

इसे भी पढ़िए-बड़ी खबर- नालंदा जिला परिषद अध्यक्ष की कुर्सी गई

अविश्वास प्रस्ताव में हारीं थीं तनुजा कुमारी
आपको बता दें कि तनुजा कुमारी जब जिला परिषद अध्यक्ष थीं तो उनके खिलाफ जुलाई 2018 में अविश्वास प्रस्ताव लाया गया था। अविश्वास प्रस्ताव में 34 सदस्यों में से 20 सदस्य ही शामिल हुए। जिनमें से 19 सदस्यों ने अध्यक्ष तनुजा कुमारी के खिलाफ वोटिंग की। जिसकी वजह से उन्हें कुर्सी गंवानी पड़ी थी।

कौन हैं तनुजा कुमारी
तनुजा कुमारी इस्लापुर पूर्वी से जिला परिषद सदस्य हैं। उनके पति सुनील कुमार बड़े कारोबारी हैं। बताया जाता है कि तनुजा कुमारी की ताकत का अंदाजा आप इसी से लगा सकते हैं कि उनका कोई राजनीतिक बैकग्राउंड नहीं रहा है । फिर भी यादव बहुल इस्लामपुर पूर्वी सीट से जिला परिषद का चुनाव जीतीं। फिर वे जिला परिषद अध्यक्ष भी बनीं।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In खास खबरें

Leave a Reply

Check Also

विधान परिषद की 8 सीटों के लिए चुनाव का ऐलान.. जानिए कब क्या होंगे

बिहार विधानसभा के चुनाव की घोषणा के कुछ घंटों बाद ही बिहार विधान परिषद की खाली आठ सीटों के…