Home खास खबरें रेलवे ट्रैक पर पानी भरा, पटना-राजगीर और पटना-गया रेलखंड पर ट्रेन परिचालन बंद

रेलवे ट्रैक पर पानी भरा, पटना-राजगीर और पटना-गया रेलखंड पर ट्रेन परिचालन बंद

0

पटना, नालंदा, गया और जहानाबाद जिलों में बाढ़ से स्थिति बदतर होती जा रही है ।बाढ़ का असर ट्रेनों के परिचालन पर भी पड़ा है. पटना- राजगीर रेलखंड और पटना-गया रेलखंड पर गाड़ियों का परिचालन बंद कर दिया गया है।

बाढ़ ने लगाया ब्रेक
बाढ़ की वजह से पटना-गया रेलखंड और पटना- बख्तियारपुर रेलखंड पर ट्रेनों का परिचालन ठप हो गया है। जानकारी के अनुसार, परसा इलाके में पुल संख्या 21 पर दबाव बढ़ गया है। वहीं बिहारशरीफ के बेना के पास पानी का दबाव बढ़ रहा है। बिहार शरीफ और वेना स्टेशन के बीच पुल नंबर 53 पर पंचाने नदी का पानी रेलवे ट्रैक पर ही आ गया है. ऐसे में पानी के करंट को देखते हुए ट्रेनों का परिचालन बंद कर दिया गया है।

कई ट्रेन कैंसिल, कई के रूट बदले गए
ईस्ट सेंट्रल रेलवे ने एहतियात बरतते हुए पटना-गया और बख्तियारपुर-राजगीर रूट पर ट्रेनों के परिचालन को बंद कर दिया है. दोनों ही रूटों पर चलने वाली कुल 8 ट्रेनों को कैंसिल कर दिया गया है. जबकि 5 ट्रेनों को बीच में ही रोक दिया गया है. इसके अलावा पटना पहुंचने वाली रांची जनशताब्दी एक्सप्रेस, इस्लामपुर से खुलने वाली हटिया एक्सप्रेस, पटना से खुलने वाली गंगा दामोदर एक्सप्रेस, पलामू एक्सप्रेस और राजगीर से खुलने वाली बुद्ध पूर्णिमा एक्सप्रेस के रूट को बदल दिया गया है.

रद्द की गई ट्रेनें
63256/63257 गया-पटना-गया मेमू
63258/63259 गया-पटना-गया मेमू
63260 पटना-गया मेमू
53231 राजगीर-दानापुर पैसेंजर
53221 राजगीर-बख्तियारपुर पैसेंजर
63340 दानापुर-राजगीर मेमू

मार्ग परिवर्तन
12366 रांची-पटना जनशताब्दी का मार्ग परिवर्तन वाया मोकामा-पटना
13348 पटना-बरकाकाना पलामू एक्सप्रेस का मार्ग परिवर्तन वाया आरा-सासाराम
18623 इस्लामपुर-हटिया का मार्ग परिवर्तन वाया पटना-किउल-झाझा
13330 पटना-धनबाद गंगा दामोदर एक्सप्रेस का मार्ग परिवर्तन वाया पटना-किउल-झाझा
14223 राजगीर-वाराणसी बुद्ध पूर्णिमा एक्सप्रेस का मार्ग परिवर्तन वाया राजगीर-नटेसर-तिलैया-गया

खतरे के निशान से ढाई मीटर ऊपर बह रही पुनपुन
पटना में पुनपुन नदी का जलस्तर लगातार खतरे के निशान से ऊपर बना हुआ है। जलस्तर 53.46 मीटर है, जो खतरे के निशान से ढाई मीटर अधिक है। पुनपुन का रिंग बांध तीन जगह और टूट गया जिससे मुख्य बाजार में पानी घुस गया। अगर यही हालात रहे तो पानी पटना नगर तक आ सकता है।

21 हजार से अधिक को सुरक्षित निकाला
आपदा प्रबंधन मंत्री लक्ष्मेश्वर राय ने कहा कि पटना के अलग-अलग इलाके में जलजमाव में फंसे 21157 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। अब तक कुल 69752 लोगों को जलजमाव क्षेत्र से बाहर निकाला गया है। पटना में बुधवार को हेलिकॉप्टर से 7500 फूड पैकेट गिराए गए हैं।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In खास खबरें

Leave a Reply

Check Also

बाहुबली विधायक अनंत सिंह की पत्नी ने वापस लिया नामांकन.. जानिए क्यों ?

मोकामा से बाहुबली अनंत सिंह की पत्नी नीलम देवी ने अपना नामांकन वापस ले लिया है। नीलम देवी …