Home काम की बात नालंदा में बनेगी एक और फोरलेन रोड.. कहां से कहा तक बनेगी फोरलेन जानिए

नालंदा में बनेगी एक और फोरलेन रोड.. कहां से कहा तक बनेगी फोरलेन जानिए

0

बिहार सरकार ने नालंदा को एक और तोहफा दिया है। नालंदा में एक और रोड को फोरलेने बनाया जाएगा। इस फोरलेन सड़क पर आरओबी और एक फ्लाईओवर भी बनाया जाएगा। इसका निर्माण बिहार पुल निर्माण निगम करेगा ।

कहां से कहां तक बनेगी फोरलेन
नालंदा में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने एक और फोरलेन रोड बनाने का फैसला किया है । ये सड़क पावापुरी से भगवान महावीर की जन्मस्थली कुंडलपुर से सैनिक स्कूल को जोड़ते हुए राजगृह तक जाएगी। यानि ऐसे समझिए कि अभी पावापुरी से नानंद जाने वाली जो मौजूदा सड़क है उसे ही फोरलेन बनाया जाएगा । इसके लिए पावापुरी-नानंद सड़क को 10 मीटर चौड़ा किया जाएगा। साथ ही रोड के दोनों ओर ढाई-ढाई फीट फ्लैंक लगाया जाएगा ।

इसके बनने से क्या फायदा होगा
ये सड़क नालंदा जिले के महत्वपूर्ण सड़कों में शुमार हो जाएगी। राजगीर और पटना के बीच बनने वाले फोरलेन में ये सड़क महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी। यानि किसी कारण राजगीर पटना फोरलेन जाम हो जाएगा तो ये सड़क बाइपास का काम करेगी। पटना से राजगीर जाने वाले फोरलेन के बीच बेगमपुर में पावापुरी-नानंद सड़क की क्रॉसिंग होगी। राजगीर से निकलने वाले जैन सैलानी थोड़ी दूरी अधिक चलकर पावापुरी और कुंडलपुर के साथ ही नालंदा विश्वविद्यालय के भग्नावशेष और म्यूजियम के भी दर्शन कर सकेंगे। साथ ही इस इलाके के 40 से ज्यादा गांवों को इसका सीधा लाभ मिलेगा

कहां पर बनेगा आरओबी फ्लाईओवर
दीपनगर से दक्षिण कुंडलपुर मोड़ के पास आरओबी और फ्लाईओवर का निर्माण कराया जाएगा। 436 मीटर चौड़े पुल के निर्माण पर 35 से 40 करोड़ रुपये खर्च आने का अनुमान है। इसकी कुल चौड़ाई 12 मीटर होगी। मतलब सात मीटर चौड़ी सड़क होगी और दोनों ओर ढाई-ढाई मीटर का पाथवे होगा। ये जिले की एकमात्र ऐसे संरचना होगी, जहां आरओबी और फ्लाईओवर एक साथ होगा। आरओबी और फ्लाईओवर के निर्माण के पहले उसके सर्वे का जिम्मा स्पर्श कंसल्टेंसी को दिया गया है। डीपीआर निर्माण का काम अंतिम चरण में है। कुंडलपुर रोड की ओर गैस एजेंसी से सबसे पहले एनएच 82 पर फ्लाईओवर और बाद में आरओबी बनाया जाएगा।

अधिकारियों का क्या कहना है
बिहार पुल निर्माण निगम के एक्सक्यूटिव इंजीनियर उपेंद्र कुमार का कहना है कि मुख्यमंत्री ने जिले की महत्वपूर्ण सड़कों का निरीक्षण किया था। इस दौरान उन्होंने सड़कों के जाल बिछाने के लिए कई अहम निर्णय लिये थे। इसी कड़ी में कुंडलपुर मोड़ के पास आरओबी कम फ्लाीओवर बनाने का आदेश दिया था।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In काम की बात

Leave a Reply

Check Also

नियोजित शिक्षकों को मिलने वाली है सबसे बड़ी खुशखबरी.. नियोजित टीचर अब बनेंगे…

बिहार में नियोजित शिक्षकों को बहुत बड़ी खुशखबरी मिलने वाली है. समान काम के लिए समान वेतन क…