Home खास खबरें बिहार में मैट्रिक और इंटर में फेल छात्रों को नीतीश सरकार का बड़ा तोहफा..

बिहार में मैट्रिक और इंटर में फेल छात्रों को नीतीश सरकार का बड़ा तोहफा..

0

बिहार में मैट्रिक और इंटरमीडिएट में फेल हुए छात्रों के लिए बड़ी खुशखबरी है. कोरोना संकट के दौरान नीतीश सरकार ने बड़ा तोहफा दिया है। इस साल मैट्रिक और इंटर में फेल छात्रों को कंपार्टमेंट देने की जरूरत नहीं है. बल्कि उन्हें ग्रेस मार्क्स देकर पास कर दिया जाएगा यानि इस साल कोई छात्र फेल नहीं होगा.

इस साल नहीं होंगे कंपार्टमेंट एग्जाम
बिहार में मैट्रिक और इंटरमीडिएट के छात्रों के लिए इस साल कंपार्टमेंट की परीक्षा नहीं होगी. कोरोना संकट की वजह से सरकार ने कंपार्टमेंट परीक्षा को स्थगित करने का फैसला लिया है। बल्कि इसकी जगह एक या दो विषयों में फेल छात्रों को ग्रेस मार्क्स देकर पास कर दिया जाएगा. बिहार बोर्ड का कहना है कि अगर दो-तीन माह के बाद कंपार्टमेंटल परीक्षा का आयोजन किया भी जाता तो रिजल्ट नवंबर या दिसंबर माह तक ही हो सकता था, जिससे कंपार्टमेंटल परीक्षा में उत्तीर्ण होने पर भी छात्रों को कोई लाभ नहीं होता, क्योंकि अधिकांश शिक्षण संस्थानों में नामांकन की प्रक्रिया पूरी हो जाती।

ग्रेस मार्क्स से पास होंगे बच्चे
बिहार बोर्ड ने मैट्रिक और इंटर परीक्षा में एक या दो विषय से फेल छात्रों को ग्रेस अंक देकर पास कर दिया है। शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा के मुताबिक इस साल वैसे छात्र जो कंपार्टमेंट परीक्षा देने की पात्रता रखते थे. वैसे छात्रों को ग्रेस मार्क्स देकर पास कर दिया गया है।

इंटर में कितने छात्रों को फायदा होगा
इंटरमीडिएट और मैट्रिक की वार्षिक परीक्षा में सम्मिलित परीक्षार्थी जो एक या दो विषयों में फेल हो जाते हैं वे कंपार्टमेंट परीक्षाओं में शामिल हो सकते हैं. इस साल इंटरमीडिएट में 46,005 विद्यार्थी एक विषय में जबकि 86,481 विद्यार्थी दो विषयों में फेल हुए थे. यानि दोनों को मिलाकर इंटर में कुल 1 लाख 32 हजार 486 विद्यार्थी फेल हो गए थे. जो इंटरमीडिएट की कंपार्टमेंटल परीक्षा में शामिल होने के लिए पात्र थे

मैट्रिक में कितने छात्रों को फायदा
इसी तरह साल 2020 में मैट्रिक वार्षिक परीक्षा में कुल 1,08,459 विद्यार्थी एक विषय में तथा 99,688 विद्यार्थी दो विषयों में अनुत्तीर्ण थे। मैट्रिक में दोनों को मिलाकर कुल 2 लाख 08 हजार 147 विद्यार्थी फेल हुए थे. जो मैट्रिक की कंपार्टमेंटल परीक्षा में शामिल होने के लिए पात्र थे।

कितने बच्चों को मिला ग्रेस मार्क्स
इंटर में कुल- 1,32,486 विद्यार्थी जो अनुत्तीर्ण थे तथा कंपार्टमेंटल परीक्षा में शामिल हो सकते थे, उनमें से कुल- 72,610 विद्यार्थी अतिरिक्त ग्रेस अंक पाकर उत्तीर्ण हुए हैं, जो कुल का 54.81 प्रतिशत है। इसी प्रकार, मैट्रिक में कुल- 2,08,147 विद्यार्थी जो अनुत्तीर्ण थे तथा कंपार्टमेंटल परीक्षा में शामिल हो सकते थे, उनमें से कुल- 1,41,677 विद्यार्थी अतिरिक्त ग्रेस अंक पाकर उत्तीर्ण हुए हैं, जो कुल का 68.07 प्रतिशत है।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In खास खबरें

Leave a Reply

Check Also

नागिन का बदला पूरा.. नालंदा में सांप डंसने से सपेरे की मौत !

सांप देखना और पकड़ना रोमांचकारी तो होता है. लेकिन ये मौत के साथ खेलने के समान होता है.. कभ…