Home खास खबरें बीपीएससी मेंबर के सरकारी आवास पर डील- 25 लाख दो; डीएसपी बनो.. जानिए क्या क्या हुई बातें

बीपीएससी मेंबर के सरकारी आवास पर डील- 25 लाख दो; डीएसपी बनो.. जानिए क्या क्या हुई बातें

0

‘25 लाख दीजिए; डीएसपी पद कंफर्म।’ विजिलेंस ब्यूरो ने इस सच्चाई का सबूत जुटाने के बाद बीपीएससी के मेंबर डॉ. रामकिशोर सिंह तथा उनके परिचित परमेश्वर राय को नामजद आरोपी बनाया। अब उनसे पूछताछ की तैयारी है। यह मामला 56 वीं से 59 वीं मुख्य परीक्षा को पास करने वालों के इंटरव्यू से जुड़ा है। विजिलेंस के पास रिश्वतखोरी की पूरी बात रिकॉर्डेड है। यह बातचीत 10 मई 2018 को डॉ. सिंह के सरकारी आवास (बी 3/65, बेल्ट्रान भवन, शास्त्रीनगर) पर रिकॉर्ड की गई।

निगरानी ने रिकार्ड की सौदे के दौरान हुई बातचीत, खास अंश…

परमेश्वर: आ गए चाचा
डॉ.रामकिशोर सिंह: आ बैठ जा
परमेश्वर: यहीं हैं
डॉ.सिंह: मिले हैं
गुप्तचर: कहां मिले साहब से
परमेश्वर: यही तो हैं
डॉ.सिंह: 17 को कौन सिटिंग में है
गुप्तचर: फर्स्ट सिटिंग में सर
डॉ. सिंह: फस्टे में हऊ। औरू कोन विषय से बीए,एएम है
गुप्तचर: जोगरफी से
डॉ.सिंह: एकरा में कौउची रखले है
गुप्तचर: एकरो में हम जोगरफी रखे हुए है
डॉ.सिंह: एगो जोगरफी एगो आऊ
गुप्तचर: हिस्ट्री
डॉ.सिंह: ठीक है यही दू गो सबजेक्ट बढ़िया से तैयार कर ली ह और जेनरल नॉलेज समझ गये
गुप्तचर: सर का आशीर्वाद है
डॉ.सिंह: ठीक हैं बात इनसे हो गयी
गुप्तचर: जी बात हो गई
डॉ.सिंह: तुम अपना देख ल
गुप्तचर: ऊ देख लेंगे सर
परमेश्वर: लाकर पहुंचाइये
गुप्तचर: हं हं उ पहुंचा देवैय
परमेश्वर: पहुंचा देंगे नहीं पहुंचाईये
गुप्तचर: हां, रौल नंबर सर को दें कि आपको आ के दे
डॉ. सिंह: एक्के बात है। ई हमरा सब काम यहीं देखता है। एडमिट काडवा के फोटे स्टेट दी ह।
परमेश्वर: अब आप लाकर दे दीजिये
गुप्तचर: साहब को केते दे देंगे अभी
परमेश्वर: पूरा देना होगा उनको
गुप्तचर: बतलाइये न कितना देना होगा
परमेश्वर: 24
गुप्तचर: 24पूरा 24
परमेश्वर: कब लेकर आ रहे हैं।
गुप्तचर: दो दिन का टाइम दे दीजिए।
परमेश्वर: दो दिन।
परमेश्वर: और हम जो बोले है उ सब साथे लेते आइएगा।
गुप्तचर: एक्के ना बोले हैं।
परमेश्वर: एक काम हो जाएगा तब दीजिएगा।
गुप्तचर: एक फाइनल मेरा हो जाएगा त बाद दे देंगे।
परमेश्वर: दीजिए आपका काम कनफर्म हो जाएगा।

(डॉ. सिंह गुप्तचर को पूछे जाने वाले सवालों का टिप्स भी बताते हैं। भारत से लेकर बिहार की चौहद्दी तक।)

हकीकत जानने के लिए निगरानी ने भेजा था जासूस
विजिलेंस को शिकायत मिली। डीएसपी गोपाल पासवान ने सत्यापन के क्रम में पाया कि 56 वीं से 59 वीं मुख्य परीक्षा को पास करने वालों को इंटरव्यू में मदद के नाम पर रिश्वत ली जा रही है। मुख्य परीक्षा पास करने वाले एक अभ्यर्थी को गुप्तचर बनाया गया। उसने परमेश्वर से संपर्क किया। परमेश्वर ने उसे अपना मोबाइल नंबर (9334392231) देते हुए कहा कि डॉ.रामिकशोर सिंह ने बात करने के बाद आपको खबर करता हूं। विधि विज्ञान प्रयोगशाला (चंडीगढ़) में हुई जांच में आवाज सही पाई गई।

बातचीत का सत्यापन अतनु दत्ता (पुलिस निरीक्षक) से कराया गया। गुप्तचर ने 11 मई 2018 को परमेश्वर को फोन करके हनुमान मंदिर के पास बुलाया। वह आया। गुप्तचर ने परमेश्वर से अतनु का परिचय अशोक भैया के रूप में कराया। उसने डीएसपी पद के लिए इंटरव्यू में मदद करने के लिए फिर 25 लाख रुपये देने की बात कही। यह भी कि मैंने तो आपको डॉ.रामकिशोर सिंह से मिलवा ही दिया है।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In खास खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

राजधानी पटना में डेंगू का कहर, BJP विधायक को भी हुआ डेंगू

राजधानी पटना (Patna) में डेंगू (Dengue) का कहर लगातार जारी है. पटना की बात करें तो अकेले अ…