Home बिहार शरीफ नालंदा में लूट की योजना बनाते पकड़ा गया सर्वोत्तम गैंग, किसकी किसकी हुई गिरफ्तारी

नालंदा में लूट की योजना बनाते पकड़ा गया सर्वोत्तम गैंग, किसकी किसकी हुई गिरफ्तारी

0

नालंदा जिला पुलिस ने लूट की योजना बनाते चार अपराधियों को धर दबोचा है. इनके पास से हथियार भी बरामद हुए हैं. इन्हें सारे थाना क्षेत्र के दायमचक गांव के प्राथमिक विद्यालय के पास से गिरफ्तार किया गया है.

क्या है पूरा मामला
बिहारशरीफ के डीएसपी इमरान परवेज ने बताया कि पुलिस को सूचना मिली थी कि पांच अपराधी दायमचक प्राथमिक विद्यालय के पास लूट की बड़ी घटना को अंजाम देने की योजना बना रहे हैं। सूचना मिलते ही डीआईयू प्रभारी मो. मुश्ताक, अस्थावां थानाध्यक्ष संतोष कुमार और सारे थानाध्यक्ष दिनेश प्रसाद सिंह दल-बल के साथ पहुंचे और गांव की घेराबंदी कर दी। पुलिस को देखते ही अपराधी भागने लगे। पुलिस ने पीछा कर चारों अपराधियों को धर दबोचा। हालांकि अंधेरे का लाभ उठाकर एक अपराधी भागने में सफल रहे। जिसकी गिरफ्तारी के लिए छापेमारी चल रही है।

इसे भी पढ़िए-नालंदा में सरकारी और प्राइवेट स्कूलों में गर्मी की छुट्टी.. कब तक बंद रहेंगे स्कूल जानिए

कौन कौन गिरफ्तार हुआ
गिरफ्तार चारों अपराधी में सारे थाना के दायमचक गांव के रहने वाले सर्वोतम कुमार, चंद्रदीप कुमार, चंदन कुमार शामिल हैं. जबकि चौथे का नाम विनीत कुमार है जो बिंद थाना क्षेत्र के जहांना गांव का रहने वाला है.
पुलिस के मुताबिक बदमाशों ने पूछताछ में चारों ने पहले भी लूटकांड, हत्या और गोलीबारी में अपनी संलिप्ता कबूल ली है. इस गैंग का मास्टर माइंड सर्वोतम कुमार है. तलाशी के दौरान पुलिस ने सर्वोतम कुमार के पास से 1 लोडेड पिस्टल, 2 जिदा कारतूस और पांच मोबाइल बरामद किया है।

इसे भी पढ़िए-नालंदा पुलिस को बड़ी कामयाबी, 3 लुटेरे गिरफ्तार, 2 फरार, पूछताछ में बड़ा खुलासा

लूट का मोबाइल भी बरामद
अपराधियों के पास से जो पांच मोबाइल बरामद हुए हैं उसमें एक मोबाइल 18 अप्रैल को अस्थावां थाना क्षेत्र के गोइठवा नदी के पास कपड़ा व्यवसायी के कर्मी अविनाश कुमार से लूटी हुई थी। घटना के दिन बदमाशों ने उक्त कर्मी से हथियार के बल पर 80 हजार रुपए और मोबाइल लूट लिए थे।

गांव के लिए सिरदर्द बन चुका था दोनों भाई
गांव वालों ने बताया कि पकड़ा गया आरोपी सर्वोतम कुमार और चंद्रदीप कुमार दोनों रिश्ते में सहोदर भाई हैं। जेल से छूटने के बाद पिछले सात-आठ माह से ये लोग गांव में रह रहा था और आए दिन मारपीट और अन्य अपराधिक घटनाओं को अंजाम देता था। शिकायत करने पर परिजन भी दबंगई दिखाते थे। दोनों की गिरफ्तारी से ग्रामीणों ने राहत की सांस ली है। वहीं पुलिस दोनों के अपराधिक रिकार्ड भी खंगालने में जुट गई है।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In बिहार शरीफ

Leave a Reply

Check Also

बिहार में सिपाही भर्ती परीक्षा का प्रश्नपत्र लीक.. जानिए कैसे और कहां से लीक हुआ प्रश्नपत्र

लगता है बिहार में सिस्टम को लकवा मार गया है.. तभी तो कभी प्रश्न पत्र लीक होता है. तो कभी र…