कन्हैया कुमार को हाईकोर्ट से बड़ी राहत… कोर्ट ने याचिकाकर्ता पर ही लगाया जुर्माना

0

लेफ्ट नेता और जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार की नागरिकता समाप्त करने को लेकर दायर याचिका खारिज हो गई है . उल्टा कोर्ट ने याचिकाकर्ता पर 25 हजार रुपए का जुर्माना लगाया है. जो उसे एक महीने के भीतर जमा करना होगा.

अदालत ने क्या कहा
हाईकोर्ट ने याचिका की सुनवाई करते हुए कहा कि कन्हैया कुमार भारत में ही पैदा हुए हैं। वो जन्मजात भारत के नागरिक हैं। इसलिए सिर्फ मुकदमे का ट्रायल चलने के आधार पर उनकी नागरिकता समाप्त नहीं की जा सकती। कोर्ट ने संविधान के अनुच्छेद 5(सी) और भारतीय नाग‌रिकता कानून 1955 की धारा 10 के प्रावधानों का हवाला देते हुए कहा कि किसी भारतीय नागरिक को उसकी नागरिता से सिर्फ तभी वंचित किया जा सकता है, जब उसे नेच्युरलाइजेशन (विदेशी व्यक्ति को भारत का नागरिक बनाने की प्रक्रिया) या संविधान में प्रदत्त प्रक्रिया के तहत नागरिकता दी गई हो।

याचिकाकर्ता पर जुर्माना
कोर्ट ने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि याची ने कानूनी प्रावधानों का अध्ययन किए बगैर महज सस्ती लोकप्रियता हासिल करने के लिए यह याचिका दाखिल की है। वह भी ऐसे समय में, जब कोरोना संक्रमण के कारण अदालतें सीमित तरीके से काम कर रही हैं और मुकदमों का बोझ बहुत है। ऐसे में इस प्रकार की फिजूल की याचिका दाखिल करना न्यायिक प्रक्रिया का दुरुपयोग और अदालत के कीमती वक्त की बर्बादी है। कोर्ट ने इसके लिए याची पर 25 हजार रुपये का हर्जाना लगाया है। याची को यह रकम एक माह के भीतर महानिबंधक के समक्ष बैंक ड्राफ्ट से जमा करना है, जो एडवोकेट्स एसोसिएशन के खाते में भेजी जाएगी। हर्जाना जमा न करने पर कोर्ट ने वाराणसी के डीएम को इसे राजस्व की तरह वसूलने का निर्देश दिया है।

क्या है पूरा मामला
दरअसल, वाराणसी के रहने वाले नागेश्वर मिश्र ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में याचिका दाखिल किया था. जिसमें कन्हैया कुमार की नागरिकता को खारिज की मांग की गई थी. याचिका में कहा गया था कि जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्ष रहे कन्हैया कुमार ने नौ फरवरी 2016 को जेएनयू परिसर में देशविरोधी नारे लगाए थे। जिस पर उनके खिलाफ देशद्रोह की धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ। दिल्ली में मुकदमे का ट्रायल चल रहा है। यह भी कहा गया कि कन्हैया कुमार और उनके साथी उन आतंकवादियों को स्वतंत्रता सेनानी बताते हैं जो भारत की एकता व अखंडता पर प्रहार कर रहे हैं और उसे नष्ट करने का कुचक्र करते हैं। इसके बावजूद भारत सरकार कन्हैया कुमार की नागरिता समाप्त नहीं कर रही है।

बेगूसराय से लड़ा था चुनाव
आपको बता दें कि पिछले लोकसभा चुनाव के दौरान कन्हैया कुमार बेगूसराय संसदीय सीट से चुनाव लड़ा था. लेकिन यहां उन्हें बीजेपी के गिरिराज सिंह से करारी हार का सामना करना पड़ा था. कन्हैया कुमार तीसरे स्थान पर रहे थे।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In खास खबरें

Leave a Reply

Check Also

बिहार पुलिस में चालक सिपाही और होमगार्ड सिपाही का रिजल्ट घोषित.. अपना रिजल्ट यहां चेक करें

CSBC Bihar Police Driver Constable Result 2021: केंद्रीय चयन पर्षद की ओर से गुरुवार को बिह…