Home जॉब एंड एजुकेशन लोकसभा में कौशलेंद्र कुमार ने उठाया प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय का मुद्दा..

लोकसभा में कौशलेंद्र कुमार ने उठाया प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय का मुद्दा..

0

नालंदा के जेडीयू सांसद सांसद कौशलेन्द्र कुमार ने नियम 377 के तहत प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय के पुस्तकालय के पुननिर्माण का मामला उठाया है।

सांसद कौशलेंद्र कुमार ने कहा कि प्राचीन नालंदा विवि पूरे विश्व में ज्ञान का केन्द्र था। गुप्तवंश के शासक कुमार गुप्त प्रथम ने 450-470 ई. के बीच इसकी स्थापना की थी। यह विश्वविद्यालय स्थापत्य कला का अद्भुत नमूना था। यहां 10 हजार से अधिक छात्रों के पठन-पाठन की व्यवस्था थी और 2 हजार से अधिक अध्यापक थे। अधिकतर विदेशी विद्यार्थी थे। जो मुख्यतः कोरिया, जापान, चीन, तिब्बत, इण्डोनेशिया, फारस, तुर्की आदि देशों के होते थे। उनके लिए यहां विशालकाय पुस्तकालय भवन था।

इसे भी पढ़िए-चुनाव आयोग ने बिहार में 12 पार्टियों का चुनाव चिन्ह बदला.. जानिए किस पार्टी को क्या मिला

कहा जाता है कि इस पुस्तकालय में 3 लाख से भी अधिक महत्वपूर्ण पुस्तकें थी। नालंदा उस समय उच्च शिक्षा का महत्वपूर्ण और विख्यात केन्द्र था। महायान बौद्ध धर्म के इस शिक्षा-केन्द्र में हीनयान बौद्ध धर्म के साथ ही अन्य धर्मों तथा अनेक देशों के छात्र पढ़ते थे।

इसे भी पढ़िए-बिहार के कई जिलों में भूकंप के झटके.. जानिए कहां था केंद्र

विश्वविद्यालय में आचार्य छात्रों को मौखिक व्याख्यान द्वारा शिक्षा देते थे। व्याकरण, दर्शन, शल्य विद्या, ज्योतिष, योग शास्त्र तथा चिकित्सा शास्त्र भी पाठ्यक्रम में शामिल था। विद्वानों का मत है कि यहां धातु की मूर्तियां बनाने के विज्ञान का भी अध्ययन होता था।

इसे भी पढ़िए-बिहार में किस पार्टी में कितने दागी विधायक.. किस पार्टी में कितने करोड़पति MLA जानिए

यहां खगोल-शात्र अध्ययन के लिए एक विशेष विभाग था। इस विश्व विख्यात विश्वविद्यालय में स्थित पुस्तकालय 9 तल का था, जो हजारों विद्यार्थियों और आचार्यों के अध्ययन का केन्द्र था।

इसे भी पढ़िए-LJP सांसद पशुपति कुमार पारस दिल्ली एम्स में भर्ती.. पासवान ने ट्वीट कर दी जानकारी

इस बौद्ध विश्वविद्यालय के अवशेष के खोज का श्रेय अलेक्जेंडर कनिंघम को जाता है। सांसद श्री कुमार ने कहा कि सन् 1199 में तुर्की शासक बख्तियार खिलजी ने नालंदा विश्वविद्यालय में आग लगवा दी थी। कहा जाता है कि विश्वविद्यालय में इतनी पुस्तकें थी कि पूरे तीन महीने तक यहां पुस्तकालय में आग धधकती रही। उसने प्राचीन भारत की उपलब्धि को नष्ट करने के लिए यह सब क्रूर कार्य किया था।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In जॉब एंड एजुकेशन

Leave a Reply

Check Also

बिहार को मिला सबसे लंबा एलिवेटेड रोड.. कहां से कहां जाने वालों को होगा फायदा

बिहार वासियों को सबसे लंबा एलिटवेटेड रोड का तोहफा मिला है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इसका…