Home नॅशनल न्यूज़ ओवैसी ने नीतीश-मोदी की ‘आशिकी’ को लेकर कह दी बड़ी बात.. जानिए क्या कहा

ओवैसी ने नीतीश-मोदी की ‘आशिकी’ को लेकर कह दी बड़ी बात.. जानिए क्या कहा

0

लोकसभा चुनाव के दौरान राजनीतिक दलों के बीच जुबानी जंग तेज हो गई है.जब भी मौका लग रहा राजनेता अपने विरोधियों पर हमला बोलने का कोई मौका नहीं छोड़ रहे हैं. एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने पीएम मोदी और बीजेपी पर गाहे बगाहे तंज कसते रहते हैं। लोकसभा चुनाव के मद्देनजर ओवैसी ने पीएम नरेंद्र मोदी और बिहार के सीएम नीतीश कुमार को लेकर अशोभनीय टिप्पणी की है।

ओवैसी ने कहा,’लैला और मजनू सुनो जब तुम्हारी दास्तान मोहब्बत की लिखी जाएगी तो मोहब्बत का नाम नहीं लिखा जाएगा उस दास्तान में, नफरत का नाम लिखा जाएगा तुम्हारी दास्तान में, लिखेगा कि जब ये दोनों एक साथ आए हिंदुस्तान में हिंदू मुस्लिम तनाव में है। असदुद्दीन ओवैसी ने कहा है कि ‘नीतीश कुमार और नरेंद्र मोदी की आशिकी बड़ी मजबूत आशिकी है, लैला-मजनू से भी ज्यादा मोहब्बत है इन दोनों में नीतीश और मोदी की मोहब्बत की दास्तान जब लिखी जाएगी, मुझसे मत पूछिए इसमें लैला कौन है और मजनू कौन है आप ही तय कीजिए।’

इससे पहले अकबरुद्दीन ओवैसी ने पीएम नरेंद्र मोदी पर निशाना साथा था। अकबरुद्दीन ओवैसी, हैदराबाद से एआईएमआईएम सांसद असदुद्दीन ओवैसी के भाई है और वो भी उनकी तरह जहर उगलते हैं।

एक जनसभा में उन्होंने कहा था कि ये समझ के बाहर है कि पीएम नरेंद्र मोदी हैं क्या। कभी वो चायवाल बन जाते हैं, तो अब वो दूसरे रूप में नजर आ रहे हैं। इस चुनाव से ठीक पहले वो चौकीदार बन चुके हैं।

अकबरुद्दीन ओवैसी ने कहा कि चायवाला बनकर उन्होंने देश को गुमराह किया और अब चौकीदार बन कर वही काम कर रहे हैं। पीएम मोदी जब चायवाला बने तो उस वक्त मैंने कहा कि चाय की केतली, चूल्हा मैं दूंगा चाय बनाकर वो पिलाएं।

पीएम मोदी वो शख्स हैं जो कभी नाले की गैस से पकौड़ा बनाते हैं। और अब जब वो चौकीदार बन चुके हैं तो वो उन्हें टोपी और सीटी देंगे। ये बेहतर होता कि पीएम नरेंद्र मोदी टोपी और गले में सीटी बांधकर देश की चौकीदारी करें।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In नॅशनल न्यूज़

Leave a Reply

Check Also

नियोजित शिक्षकों को मिलने वाली है सबसे बड़ी खुशखबरी.. नियोजित टीचर अब बनेंगे…

बिहार में नियोजित शिक्षकों को बहुत बड़ी खुशखबरी मिलने वाली है. समान काम के लिए समान वेतन क…