Home खास खबरें बीजेपी के पिंटू को जेडीयू ने कहां से बनाया उम्मीदवार.. जानिए

बीजेपी के पिंटू को जेडीयू ने कहां से बनाया उम्मीदवार.. जानिए

0

बीजेपी के नेता और बिहार के पूर्व मंत्री सुनील कुमार पिंटू ने पाला बदल लिया है । सुनील कुमार पिंटू अब बीजेपी छोड़कर जेडीयू में शामिल हो गए हैं। सुनील कुमार पिंटू के जेडीयू में शामिल होते ही पार्टी ने उन्हें लोकसभा सीट इनाम में भी दिया है।

पार्टी छोड़ा है एनडीए नहीं
जेडीयू ज्वाइन करने पर सुनील कुमार पिंटू ने कहा कि उन्होंने बीजेपी को छोड़ा है. लेकिन एनडीए में हूँ. आपको बता दें कि सुनील कुमार पिंटू बिहार सरकार में मंत्री रह चुके हैं और नीतीश कुमार के करीबी बताए जाते हैं

सीतामढ़ी से उम्मीदवार बने सुनील कुमार पिंटू
जेडीयू ने सुनील कुमार पिंटू को सीतामढ़ी से उम्मीदवार बनाया है। आपको बता दें कि आज ही सीतामढ़ी से जेडीयू उम्मीदवार डॉक्टर वरुण कुमार ने अपनी उम्मीदवारी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को लौटा दिया था। जिसके बाद सुनील कुमार पिंटू को सीतामढ़ी से टिकट दिया गया है ।

इसे भी पढ़िए-सीतामढ़ी से JDU उम्मीदवार ने लौटाया टिकट, जानें क्या है वजह

अर्जुन राय बनान सुनील कुमार पिंटू
सीतामढ़ी सीट पर अब मुकाबला अर्जुन राय और सुनील कुमार पिंटू के बीच होगा। अर्जुन राय को इस सीट पर प्रबल दावेदार माना जा रहा है। अर्जुन राय को शरद यादव का करीबी बताया जाता है और वो आरजेडी के चुनाव चिन्ह पर चुनाव में उतरे हैं ।

इसे भी पढ़िए-नालंदा में कहां और कब तक बनेगा इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम; जानिए

पिछले चुनाव में जीते थे राम कुमार शर्मा
साल 2014 में सीतामढ़ी लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से एनडीए की जीत हुई थी. उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी आरएलएसपी के राम कुमार शर्मा कुशवाहा सांसद बने. 2019 के लिए आरएलएसपी महागठबंधन का हिस्सा है जबकि सामने बीजेपी-जेडीयू से मुकाबला है.

सीतामढ़ी का समीकरण जानिए
2015 के बिहार विधानसभा चुनाव में इस क्षेत्र की 6 सीटों में से बीजेपी और आरजेडी को 2-2 सीटों पर जीत हासिल हुई थी. जबकि 1-1 सीट जेडीयू और कांग्रेस के खाते में गई. इस लोकसभा क्षेत्र में मतदाताओं की संख्या 1,355,817 है. जिनमें से 636,956 महिला मतदाता जबकि 718,861 पुरुष मतदाता हैं.

आपको बता दें कि सीतामढ़ी के जेडीयू उम्मीदवार डॉक्टर वरुण ने नीतीश कुमार से मिलकर चुनाव लड़ने में असमर्थता जताई है और इसके लिए उन्होंने वजह ये बताई है कि उन्हें न तो जनता दल यूनाइटेड का और न ही भाजपा का कोई नेता बहुत महत्व दे रहा था। इस वजह से वे काफी परेशान थे। इसीलिए उन्होंने ये फैसला लिया है और नामांकन से पहले ही टिकट लौटा रहे हैं।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In खास खबरें

Leave a Reply

Check Also

कोरोना का कहर: बीजेपी नेता और स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख समेत 10 लोगों की मौत

बिहार में कोरोना का कहर जारी है. कोरोना के नए मरीजों की तादाद बढ़ती जा रही है. कोरोना की व…