Home रोचक खबरें नालंदा-नवादा से जुड़े यूपी पुलिस भर्ती गड़बड़ी के तार.. अंगूठे पर रबड़ की झिल्ली से खुलासा

नालंदा-नवादा से जुड़े यूपी पुलिस भर्ती गड़बड़ी के तार.. अंगूठे पर रबड़ की झिल्ली से खुलासा

0

उत्तर प्रदेश की पुलिस भर्ती परीक्षा-2018 में हुई गड़बड़ी का तार नालंदा-नवादा से जुड़ गया है। उत्तर प्रदेश पुलिस ने बिहारशरीफ से एक युवक को धर दबोचा है। लेकिन, अब भी इसके सरगना की तलाश की जा रही है। बताया जा रहा है कि सरगना नवादा जिले के नारदीगंज का रहने वाला है।

यूपी पुलिस ने गिरफ्तार किया
वाराणसी पुलिस ने बिहारशरीफ के आनंद पथ मोहल्ले से राजेश कुमार नामक एक युवक को गिरफ्तार किया है। वो गिरियक थाना क्षेत्र के मुस्तफापुर के रहने वाले सुरेश प्रसाद का बेटा है और कई साल से बिहारशरीफ में आनंद पथ मोहल्ले में शिक्षक सतीश कुमार के घर में किराये पर रहता था।

इसे भी पढ़िए-डिजिटल विलेज का पहला चरण पूरा, 128 पंचायतों में फ्री वाईफाई की सुविधा

राजेश ने उपलब्ध कराया था मुन्नाभाई
सिपाही भर्ती परीक्षा के लिए राजेश ने यूपी के 14 आवेदकों को पटना और अन्य जगहों से स्कॉलर (मुन्नाभाई) उपलब्ध कराकर उन्हें पास कराया था। राजेश का नाम जांच के क्रम में सामने आया। इस पूरे गिरोह में शामिल आवेदकों और पकड़े गये स्कॉलर गैंग के सदस्यों से पूछताछ के बाद मामले का भंडाफोड़ हुआ था। राजेश को यूपी पुलिस अपने साथ वाराणसी ले गई है।

इसे भी पढ़िए-पटना में भोजपुरी सिंगर की बेरहमी से हत्या.. बालू के ढेर पर फेंक दिया शव

बायोमेट्रिक वेरीफिकेशन के दौरान खुलासा
पुलिस भर्ती परीक्षा में पास हुए पूर्वांचल के अभ्यर्थियों का बायोमेट्रिक वेरीफिकेशन दिसंबर में वाराणसी पुलिस लाइन में चल रहा था। पुलिस को पहले से ही जानकारी थी कि इस भर्ती में स्कॉलर गैंग के जरिये कई आवेदक परीक्षा पास कर यहां वेरीफिकेशन के लिए पहुंचे हुए हैं। 14 दिसंबर को पुलिस लाइन में वेरीफिकेशन के दौरान आजमगढ़ के विवेक यादव पर आशंका हुई।

इसे भी पढ़िएनालंदा में पुलिसवाला और 1 साल का बच्चा समेत कोरोना के 10 नए मरीज मिले

रबड़ की झिल्ली से हुआ खुलासा
आजमगढ़ के विवेक यादव के अंगूठे की जांच की गई तो रबर की झिल्ली मिली। इस झिल्ली पर उस स्कॉलर के अंगूठे के निशान थे। इसके बाद इस पूरे गैंग की एक-एक परत खुलती चली गई। बायोमेट्रिक वेरीफिकेशन करने के लिए नामित टीसीएस कंपनी के कर्मचारियों को अपने साथ मिलाकर पुलिस भर्ती की अंतिम प्रक्रिया पूरी कराने तक डील थी।

इसे भी पढ़िए-बिहारशरीफ में कपड़ा व्यापारी के घर में लाखों की चोरी.. अपनों पर है शक

ढाई लाख में हुई थी डील
पुलिस भर्ती परीक्षा में स्कॉलर गैंग ने ढाई लाख रुपये में आवेदकों से डील की थी। बायोमेट्रिक वेरीफिकेशन में पास कराने के लिए टीसीएस कर्मियों को शामिल किया गया। इनकी भूमिका पुलिस लाइन में अपने कंडीडेट के फिंगरप्रिंट का वेरीफिकेशन कर देना। उन्हें पता होता था कि उक्त कंडीडेट के अंगूठे में स्कॉलर गैंग के अंगूठे के निशान हैं। यही नहीं इन कंडीडेट की जगह तस्वीरें भी परीक्षा में बैठे स्कॉलर की होती थी। इसके लिए टीसीएसकर्मी किसी होटल में स्कॉलर की तस्वीर लेते थे और इसके बाद उसे पहले से ही अपलोड कर लेते थे। ताकि, पुलिस लाइन में आवेदकों की तस्वीर की जगह स्कॉलर की तस्वीर लगाकर वेरीफिकेशन की प्रक्रिया पूरी की जा सके।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In रोचक खबरें

Leave a Reply

Check Also

कोरोना का कहर: बीजेपी नेता और स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख समेत 10 लोगों की मौत

बिहार में कोरोना का कहर जारी है. कोरोना के नए मरीजों की तादाद बढ़ती जा रही है. कोरोना की व…