Home खास खबरें शौचालय घोटाला में बड़ी कार्रवाई, बीडीओ-सीओ समेत 84 पर FIR दर्ज

शौचालय घोटाला में बड़ी कार्रवाई, बीडीओ-सीओ समेत 84 पर FIR दर्ज

1 second read
0
0
757

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के गृह प्रखंड हरनौत में चर्चित शौचालय घोटाले में बड़ी कार्रवाई हुई है। कमिश्नर आनंद किशोर के आदेश पर तत्कालीन बीडीओ चंदन कुमार औऱ तत्कालीन सीओ समेत 84 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है। इन सभी पर आरोप है कि इन्होंने हरनौत के चौरिया पंचायत में कागज पर 350 शौचालय बनाकर पैसे निकाल लिए। इस फर्जीवाडे़ का खुलासा एक साल पहले फरवरी 2017 में चंद्रमणि सिंह ने आरटीआई के जरिए किया था। इसके बाद चंद्रमणि सिंह ने इसकी शिकायत डीएम, कमिश्नर और मुख्यमंत्री सचिवालय से किया था। शिकायत के करीब एक साल बाद अब कार्रवाई हुई है । जिनपर लोगों पर मुकदमा दर्ज हुआ है उसमें हरनौत के तत्कालीन बीडीओ और सीओ के अलावा मनरेगा के परियोजना पदाधिकारी, लेवर इंस्पेक्टर, दो आवास सहायक, एक विकास मित्र शामिल है। एफआईआर दर्ज होने की सूचना जैसे ही संबंधित कर्मचारियों को मिली वे वैसे ही दफ्तर से फरार हो गए। सूत्रों के मुताबिक इस मामले में कई सफेदपोश नेताओं की गर्दन भी फंस सकती हैं।

क्या है मामला

नालंदा जिले के हरनौत प्रखंड की चौरिया पंचायत में शौचालय निर्माण के नाम पर लाखों गोलमाल सामने आया था । पंचायत में 1200 से 1300 परिवार हैं, जबकि 1547 शौचालय निर्माण की राशि अब तक निकाली गई थी । एक ही परिवार के कई लोगों के नाम पर राशि आवंटित कर दी गई थी । साथ ही जो शौचालय बनाये भी गये थे उनकी क्वालिटी इतनी खराब थी कि कई तो बनने के बाद ही धाराशायी हो गये।

शौचालय निर्माण के नाम पर खानापूर्ति

शौचालय निर्माण के नाम पर की गयी खानापूर्ति की गई थी। जिन लोगों ने शौचालय बनवाया भी उसमें टीन का छप्पर, बांस की फट्ठी का दरवाजा लगाया गया था । कुछ शौचालय की दीवार तो तेज हवा में गिर गए थे

कैसे हुआ गोरखधंधा ?

1. एक ही परिवार के तीन-तीन, चार-चार लोगों के नाम पर शौचालय बनवा दिया गया यानि एक परिवार में एक शौचालय बना और राशि तीन या चार की निकाली गई

2. पुराने बने शौचालय के नाम पर भी राशि उठा ली गयी यानि जिनके घर में पहले से शौचालय बना था, उनके नाम पर शौचालय आवंटित कर राशि का भुगतान कर दिया गया।

3. इंदिरा आवास लाभुकों को भी मिल गया शौचालय। जबकि इंदिरा आवास के साथ ही लाभुकों को शौचालय निर्माण की राशि दी जाती है।

इस मामले में दोषियों पर देर से ही सही कार्रवाई तो हुई है लेकिन नालंदा लाइव डॉट कॉम का सवाल है कि इन्हें सजा कब मिलेगी? इतना ही नहीं ऐसे घोटाले हरनौत के अलावा हिलसा, चंडी समेत दूसरे प्रखंड में भी है लेकिन यहां कार्रवाई कब होगी ? साथ ही इन प्रखंडों में भी एक सूर्यमणि सिंह जैसे योद्धा की जरुरत है जो भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाए और देश के लूटरों को पर्दाफाश करे

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In खास खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

विदेश भागने की फिराक में अनंत सिंह, CID ने जारी करेगा लुक आउट नोटिस

बिहार पुलिस को इस बात का डर सता रहा है कि अनंत सिह नाम बदलकर विदेश भाग सकता है। जिसके बाद …