Home खेती किसानी बिहार पहुंचा टिड्डियों का कई दल.. किन किन जिलों तक पहुंचा जानिए

बिहार पहुंचा टिड्डियों का कई दल.. किन किन जिलों तक पहुंचा जानिए

0

बिहार में टिड्डियों के कई दलों ने एक साथ अटैक बोल दिया है । टिड्डियों के दल ने फसल और पेड़-पौधों पर हमला बोल दिया है। टिड्डियों का ये दल रोहतास, विक्रमगंज,पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, सीवान, गोपालगंज और मधुबनी तक पहुंच गया है ।

टिड्डियों को भगाने में जुटा कृषि विभाग
टिड्डियों को भगाने के उपाय किए जा रहे हैं। कीटनाशक छिड़की जा रही हैं। साथ ही फायर ब्रिगेड की गाड़ियों का सायरन भी बजाया जा रहा है

इसे भी पढ़िए-तेल्हाड़ा में 28 करोड़ की लागत से बनेगा म्यूजियम, जानिए खासियत

टिड्डियों को देख सकते में किसान
टिड्डियों को देखकर किसान सकते हैं। इतना बड़ा टिड्डियों का झुंड उन्होंने पहले कभी नहीं देखा था। वे खेत में धान की रोपनी को देखने गये थे। तभी आकाश में टिड्डियों का विशाल झुंड दिखा। देखते ही देखते वे नीचे उतरने लगे। डर के मारे वे लोग वहां से भाग निकले। आगे जाकर देखा तो वे फसलों पर बैठ गये थे और उसे चट करने लगे।

इसे भी पढ़िए-बिहार में बनेगा 445 किलोमीटर लंबा अश्वगंधा कॉरिडोर.. जानिए कहां से कहां तक बनेगा

टिड्डी से ऐसे कर सकते हैं बचाव
टिड्डी दल हजारों की संख्या में आगे बढ़ते हैं। रात में जब टिड्डी दल आराम करता है, तब इसपर क्लोरोपायरीफॉस कीटनाशक का छिड़काव कर इसको रोका जा सकता है। वैसे इसे भगाने का पारंपरिक तरीका भी अपनाया जाता है। लोग थाली, ढोल और तरह-तरह के आवाज कर इसे भगाते हैं।

इसे भी पढ़िए-बिहार में 30 फीसदी तक बढ़ेगा बस किराया.. जानिए पटना से कहां का कितना भाड़ा

मौसम के बदले मिजाज से घुसा दल
कृषि वैज्ञानिकों के अनुसार, मौसम के बदले मिजाज के कारण भारत में टिड्डी का आक्रमण हुआ है। भारत में बारिश इस वर्ष काफी अधिक हुई है। उत्तर बिहार में अप्रैल में इतनी अधिक बारिश हुई है कि 20 वर्षों का रिकॉर्ड टूट गया है। उत्तर बिहार में नमी काफी अधिक बनी हुई है। टिड्डी नमी वाले इलाके में तेजी से प्रवेश करते हैं।

इसे भी पढि़ए-दो जिलों के डीएम को पटना हाईकोर्ट का नोटिस.. 30 जून तक मांगा जवाब

एक दिन में 200 किमी की दूरी तय करता
कृषि वैज्ञानिकों के अनुसार, एक दिन में टिड्डी दल 200 किमी की दूरी तय करता है। टिड्डी दल रात में आगे नहीं बढ़ता है। शाम में सभी एक जगह में एकत्र होकर पेड़,पौधे व खेत में लगी फसलों पर आराम करते हैं।

How to save from lightning

आकाशीय बिजली से बचना है तो ये वीडियो जरूर देखिए और किसान भाइयों को भी दिखाइए

Posted by Nalanda Live on Thursday, June 25, 2020

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In खेती किसानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

सोशल मीडिया पर ‘साइकिल गर्ल’ ज्योति की रेप के बाद हत्या की खबर.. जानिए सच क्या है

लॉकडाउन के दौरान पिता को गुरुग्राम से दरभंगा 1200 किलोमीटर की दूरी को साइकिल से तय कर पहुं…