मशरूम की खेती के लिए सरकार दे रही है पैसा.. नालंदा के 12 गांवों का चयन.. जानिए क्या करना होगा

0

किसानों की आय बढ़ाने पर बिहार सरकार काम कर रही है। इसके लिए मशरुम की खेती को बढ़ावा दिया जा रहा है । ताकि किसान हर महीने 30 हजार से डेढ़ लाख रुपए की आय कर सकें। बिहार की नीतीश सरकार इसके लिए 50 प्रतिशत अनुदान के रूप में दे रही है ।

झोपड़ी में होगी खेती
मशरूम की खेती के लिए गांवों में बांस की झोपड़ी बनाई जा रही है। इसके लिए बिहार सरकार अनुदान के रुप में आर्थिक मदद दे रही है। नालंदा जिला के 12 गांवों को इसके लिए चयनित किया गया है। जहां मशरूम की खेती के लिए बांस की झोपड़ी बनाई जा रही है।

झोपड़ी की खासियत क्या है
अगर आप बांस की झोपड़ी बनाकर मशरूम की खेती करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको सिर्फ 1500 वर्ग फीट यानि 160 वर्ग गज जमीन चाहिए.. जिस पर झोपड़ी बनाई जाएगी । झोपड़ी की लंबाई 50 फीट और चौड़ाई 30 फीट होनी चाहिए.. और इसकी ऊंचाई 12 फीट रहता है ।

मशरूम किट के लिए रैक
50X30X12 फीट के इस बांस के झोपड़ी में रैक बनाने होंगे जिसमें मशरूम का किट रखना होगा । यहां पर बता दें कि इसमें बटन मशरुम नहीं बल्कि ऑयस्टर मशरूम की खेती होती है। जो सालों भार की जा सकती है ।

झोपड़ी बनाने में कितनी लागत
राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के तहत ये मशरूम की खेती को बढ़ावा दिया जा रहा है । ताकि कम जगह और कम लागत में मशरूम की खेती की जा सके । इसमें एक झोपड़ी बनाने की लागत करीब 1 लाख 79 हजार 750 रुपए आती है । जिसमें 90 हजार रुपए सरकार अनुदान के तौर पर देती है ।

किसानों की होगी मोटी कमाई
कृषि विभाग के मुताबिक, नालंदा और बिहार के दूसरे जिलों में इसके मुताबिक मौसम होता है। जिसकी वजह से मशरूम की अच्छी खेती की जा सकती है । अनुमान के मुताबिक, अगर अच्छी तरह से खेती की जाय तो एक झोपड़ी से आसानी से 30 हजार रुपए महीने की आय हो सकती है ।

किस किस गांव में खेती
मशरूम की खेती के लिए नालंदा जिले के 7 प्रखंडों के 12 गांवों का चयन हुआ है । जहां बांस की झोपड़ी बनाकर मशरूम की खेती की जाएगी। जिसमें हरनौत प्रखंड का नेहुसा और विरनामां टोला, कतरीसराय का पटोरिया और बिलारी, बेन का मकदुमपुर, हिलसा का लोहरा, हनुमान नगर और नगर परिषद के वार्ड नंबर 23, एकंगरसराय का रसलपुर, नूरसराय का दरुआरा और चंडी का विरनावां गांव शामिल है ।

मार्केट में डिमांड
इन दिनों में मार्केट में मशरूम का खासा डिमांड है। जिसकी वजह से बाजार में अच्छी कीमत भी मिलती है । मशरूम को सेहत का खजाना भी बताया जाता है । इसमें पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन और मिनिरल्स पाए जाते हैं । जो रोग प्रतिरोधी क्षमता को बढ़ाता है ।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In खेती किसानी

Leave a Reply

Check Also

बिहार में महागठबंधन को एक और बड़ा झटका.. एक और विधायक का विकेट गिरा.. जानिए पूरा मामला

बिहार में महागठबंधन को एक और बड़ा झटका लगा है । पहले स्पीकर की कुर्सी गई.. फिर फ्लोर टेस्ट…