Home खास खबरें देश भर में क्यों मशहूर है बड़गांव का छठ, जानिए बड़गांव का इतिहास

देश भर में क्यों मशहूर है बड़गांव का छठ, जानिए बड़गांव का इतिहास

0

बिहार के नालंदा जिला में स्थित बड़गांव सदियों से सूर्योपासना का प्रमुख केंद्र रहा है. धार्मिक दृष्टिकोण से इसका बहुत महत्व है. नालंदा प्रागैतिहासिक काल से ही भगवान सूर्य की उपासना और अर्घ्य के लिए महत्वपूर्ण है. देश में कुल 12 प्रमुख सूर्यपीठ हैं. उन्हीं में से एक बड़गांव है. यहां प्रागैतिहासिक कालीन सूर्य तालाब है. कहा जाता है कि भगवान भास्कर को अर्घ्य देने की परंपरा इसी बड़गांव (पुराना नाम बर्राक) से शुरू हुई थी.

क्या है धार्मिक मान्यता
कहा जाता है कि यहां द्वापर काल का सूर्य तालाब है, जिसमें छठव्रती अर्घ्यदान और सूर्य मंदिर में पूजा-अर्चना करते हैं. मान्यता के मुताबिक इस परंपरा के अधिष्ठाता भगवान श्रीकृष्ण के पुत्र राजा सांब हैं. महर्षि दुर्वासा के श्राप से उन्हें कुष्ट रोग हो गया था.

बड़गांव में मिली थी मुक्ति
भगवान श्रीकृष्ण ने उन्हें बर्राक (बड़गांव) में सूर्य उपासना करने पर रोग से मुक्ति का मार्ग बताया था. पिता के बताये अनुसार राजा सांब बर्राक पहुंचे, लेकिन यहां सूर्योपासना कराने वाले पुरोहित नहीं थे. कृष्णायन ग्रंथ के अनुसार सांब ने मध्य एशिया के क्रौंचद्वीप से पूजा कराने के लिए ब्राह्मण बुलाया था. वाचस्पति संहिता के अनुसार 49 दिनों तक बर्राक (बड़गांव) में सूर्य उपासना, साधना और अर्घदान के बाद राजा सांब को कुष्ट से मुक्ति मिली थी.

बड़गांव में दो कुंड थे
मान्यता के मुताबिक द्वापर काल में बड़गांव सूर्य तालाब के मध्य में दो कुंड थे. एक दूध से भरा होता था, दूसरा जल से. सरोवर में अर्घ्य दिये जाते थे. दोनों कुंड से दूध और जल सूप पर ढारे जाते थे. आज भी सूप पर दूध और जल ढारने की परंपरा है. वो पौराणिक सूर्य तालाब जमींनदोज हो गया है. उसी तालाब के ऊपर एक बड़ा तालाब मौजूद है, जहां सूर्य उपासक स्नान और अर्घदान करते हैं.

आज भी मौजूद है मंदिर के अवशेष
सूर्य तालाब के उत्तर-पूरब कोने पर पत्थर का एक मंदिर था. उस मंदिर में भगवान सूर्य की विशाल प्रतिमा थी, उसका निर्माण पाल राजा नारायण पाल ने 10वीं सदी में कराया था. वर्तमान में वो मंदिर अस्तित्व में नहीं है. वो 1934 के भूकंप में ध्वस्त हो गया था. दूसरे स्थान पर बड़गांव में सूर्य मंदिर का निर्माण कराया गया है. इस मंदिर में पुराने मंदिर की सभी प्रतिमाएं स्थापित की गयी हैं. सभी प्रतिमाएं पालकालीन हैं.

क्या है मान्यता
मान्यता के मुताबिक जो कोई सच्चे मन से बड़गांव में पूजा, साधना, आराधना और मनौती मांगने आता है, उसकी मनोकामना पूरी होती है. बड़गांव सूर्य तालाब में स्नान करने और भगवान भास्कर की आराधना से चर्म और कुष्ट रोग दूर हो जाते हैं. यहां मुस्लिम समुदाय के लोग भी छठ करने के लिए आते हैं. बड़गांव में छठ की छटा देखने के लिए विदेशी भी बड़ी संख्या में आते हैं.

कैसे आएं बड़गांव
बड़गांव अब लोक परंपरा बन गयी है. यहां साल में दो बार कार्तिक और चैत मास में छठ पर्व के मौके पर विशाल मेला लगता है. बड़गांव राजगीर से करीब 15 किलोमीटर उत्तर और पटना से 85 किलोमीटर दक्षिण प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय भग्नावशेष के पास है. बड़गांव का सूर्य मंदिर जितना पुराना है, उतना ही इसका धार्मिक महत्व है. बड़गांव आप ट्रेन और बस के जरिए आ सकते हैं ।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In खास खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

नालंदा में शिक्षक की दिनदहाड़े हत्या, लोगों ने किया सड़क जाम

नालंदा जिला में अपराध की घटनाएं चरम पर हैं. बदमाशों ने एक शिक्षक की गोली मारकर हत्या कर दी…