खुशखबरी.. 7 नई रेलवे लाइन को मिली मंजूरी.. नवादा, गया और नालंदा को खास तब्ब्जो.. जानिए कहां से गुजरेगी कौन सी रेल लाइन..

0

बिहार में डबल इंजन की सरकार आते ही बिहारवासियों को सौगात मिलनी शुरू हो गई है । बिहार के दानापुर रेलमंडल में सात नई रेललाइनों के निर्माण का रास्ता साफ हो गया है। इन सात रेल लाइनों के लिए केंद्र की मोदी सरकार ने 2557 करोड़ की राशि आवंटित की है। ताकि बिहार में विकास की रफ्तार को भी दोगुनी स्पीड से दौड़ा सके।

दशरथ मांझी के गांव को जोड़ा जाएगा
माउंटनमैन दशरथ मांझी के गांव को भी रेल नेटवर्क से जोड़ा जा रहा है ताकि भविष्य में पर्यटक उनके गांव तक पहुंच सकें। दशरथ मांझी के गांव गेहलौर को वजीरगंज होते हुए नेटसर से जोड़ा जाएगा । इसके लिए 20 किलोमीटर लंबी रेललाइन बिछाई जाएगी । जिसके लिए 320 करोड़ रुपए की धनराशि केंद्र सरकार ने आवंटित की है ।

रेल नेटवर्क से जुड़ेगा बोधगया
बौद्ध सर्किट के जरिए राजगीर को बोधगया से रेलवे नेटवर्क से जोड़ा जा रहा है। ताकि पर्यटकों को ज्यादा से ज्यादा आसानी हो । राजगीर से बोधगया को जोड़ने के लिए नई रेल लाइन बिछाने की घोषणा पहले ही की गई थी। अब उसके लिए फंड जारी कर दिया गया है । इस लाइन को राजगीर से हिसुआ होते हुए तिलैया तक मिला दिया जाएगा। 47 किमी लंबे इस रेलखंड का पहले ही निर्माण कार्य पूरा हो चुका है। तिलैया से मानपुर तक लाइन पहले से ही तैयार थी। मानपुर से सीधे बाईपास निकालते हुए बोधगया तक नई रेल लाइन का निर्माण होना है। इस पूरे रेलखंड के लिए 549 करोड़ रुपये आवंटित कर दिए गए हैं । राजगीर से बोधगया तक नई रेल लाइन के सर्वे का काम पूरा हो गया है। पहले चरण में राजगीर से हिसुआ तिलैया तक नई रेल का निर्माण कर राजगीर को गया जंक्शन से जोड़ दिया गया है। अब दूसरे चरण में गया के मानपुर स्टेशन से अलग से बाईपास रेल लाइन का निर्माण करने की योजना है। यहीं से बोधगया तक नई रेल लाइन बिछाई जाएगी। इससे राजगीर से बोधगया सीधे जुड़ जाएंगे। नटेसर-गया-बोधगया-चतरा नई रेल लाइन को 549 करोड़ रुपए आवंटित हुए हैं।

नवादा को तोहफा
नवादा से लक्ष्मीपुर तक नई रेल लाइन बिछाई जाएगी। ये नई रेल लाइन 137 किलोमीटर लंबी होगी । जिसके लिए 620 करोड़ आवंटित किए गए हैं। आपको बता दें कि ये सिकंदरा,खैरा,झाझा,सोनो,चकाई होते हुए लक्ष्मीपुर तक जाएगी।

शेखपुरा से बरबीघा होते हुए बिहारशरीफ तक जाएगी ट्रेन, राजगीर से जुड़ेगा जिला
किऊल-गया सेक्शन के शेखपुरा को अब जंक्शन स्टेशन के रूप में जाना जाएगा। शेखपुरा से बरबीघा होते हुए बिहार शरीफ तक नई रेल परियोजना पर काम चल रहा है। बाइपास से शेखपुरा, नवादा, बारिसलीगंज सहित गया सेक्शन के लोग आसानी से पटना और दिल्ली सफर तय कर सकेंगे। इससे लखीसराय, बोधगया और राजगीर का जुड़ाव हो जाएगा।

बिहटा-औरंगाबाद रेललाइन
बिहटा से औरंगाबाद के बीच नई रेललाइन बिछाई जाएगी। बिहटा से औरंगाबाद के बीच की दूरी करीब 118 किमी है । जिसके लिए रेल लाइन बिछाई जाएगी । इसके लिए केंद्र की मोदी सरकार ने 326 करोड़ रुपए का प्रावधान किया है ।

किउल बाइपास लाइन
जमालपुर और किऊल रेल सेक्शन पर रामपुर हाल्ट के बीच रेलवे का नया बाइपास बनेगा। इस बाइपास की लंबाई लगभग आठ किलोमीटर होगी। बाइपास के बनने से जमालपुर से हावड़ा और हावड़ा से जमालपुर आने वाली ट्रेनों को किऊल स्टेशन नहीं जाना होगा। इस रूट की अप-डाउन की ट्रेनें सीधा बाइपास से मेन लाइन पर चली जाएंगी। इसके लिए 128 करोड़ राशि आवंटित की गई है ।

आरा-सासाराम बाईपास लाइन
आरा से सासाराम तक नई रेललाइन बिछाई जाएगी । ये बाईपास लाइन के नाम से जाना जाएगा । इसके लिए रेलवे ने 118 करोड़ रुपए आवंटित किए हैं।

झाझा से पटिया रेल लाइन
झाझा से पटिया ( बैरिया) तक नई रेल लाइन बिछाई जाएगी । 20किलोमीटर लंबी नई रेललाइन के लिए 496 करोड़ का प्रावधान किया गया है।

दरअसल, केंद्र सरकार रेलवे के इंफ्रास्ट्रक्चर पर भी जोर दे रही है, ताकि नई ट्रेनों के चलाने की राह आसान हो सके। जिससे वंदे भारत जैसी सेमी हाइस्पीड ट्रेनें अपनी पूरी क्षमता से पटिरयों पर दौड़ सकेंगी।इस परियोजना के लिए हाल के महीनों में बड़ा आंदोलन हुआ था।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In बढ़ता बिहार

Leave a Reply

Check Also

बिहार में महागठबंधन को एक और बड़ा झटका.. एक और विधायक का विकेट गिरा.. जानिए पूरा मामला

बिहार में महागठबंधन को एक और बड़ा झटका लगा है । पहले स्पीकर की कुर्सी गई.. फिर फ्लोर टेस्ट…