सिविल ड्रेस में थे ASP, पुलिसवालों ने जमकर पीटा.. जानिए पूरा मामला

0

कहा जाता है कि ड्रेस ही पुलिसवालों की पहचान होती है। अगर पुलिस वाले ड्रेस ना पहने हों तो आम और पुलिस वालों में अंतर नहीं पता चलता है । इसकी वजह से कभी कभी खामियाजा भी भुगतना पड़ता है। ऐसा ही एएसपी बीएम शाक्य के साथ हुआ। जब तीन पुलिस वालों ने एएसपी साहब को नहीं पहचाना और जमकर धुनाई कर दी। क्योंकि एएसपी साहब वर्दी में नहीं थे।

परिचय देने पर क्या कहा
एएसपी शाक्य ने बताया कि जब तक मैं अपना परिचय देता, वे लोग यह कहते हुए निकल गए कि तुम मेरा कुछ नहीं बिगाड़ पाओगे। अगली बार हमसे उलझोगे, तो जान से मार देंगे। इसके बाद वो लोग गाड़ी लेकर निकल गए। एएसपी बी एम शाक्य का आरोप है कि सिपाहियों ने मारपीट के दौरान एएसपी को दांत से भी काटा और उनकी पत्नी को भी धक्का दिया।

इसे भी पढ़िए-बिहार में एक और फोरलेन को मंजूरी,जानिए किस-किस गांव की जमीन का अधिग्रहण होगा

क्या है पूरा मामला? 
मामला मध्य प्रदेश के भोपाल की है। एएसपी बी एम शाक्य अपने परिवार के साथ भोपाल के रेडियो कॉलोनी में रहते हैं। वो डायल 100 मुख्यालय के वर्क शॉप शाखा में कार्यरत हैं। बताया जा रहा है कि वे देर रात वर्धमान सिटी में स्थित अपने साढ़ू भाई के घर से परिवार संग सरकारी गाड़ी से घर लौट रहे थे। इस दौरान डिपो चौराहे पर देसी शराब की दुकान के सामने उन्हें बीच सड़क पर बैरिकेड्स रखे हुए दिखे। सड़क पर कम जगह होने की वजह से वह अपनी गाड़ी से उतर गए और बैरिकेड्स खिसकाने लगे। तभी सामने की सड़क से सिविल ड्रेस में नशे में धुत तीन सिपाही तेज रफ्तार में कार चलाते हुए पहुंचे। रफ्तार तेज होने से कार से एएसपी को हल्की सी टक्कर लग गई।

पत्नी से भी बदसलूकी
एएसपी ने उन सिपाहियों को सलीके से गाड़ी चलाने की सलाह दी तो वे तीनों एएसपी पर भड़क उठे। तीनों सिपाहियों ने एएसपी से बदसलूकी शुरू कर दी और धमकी दी। विवाद बढ़ने पर नशे में धुत तीनों सिपाहियों ने मारपीट शुरू कर दी। एक सिपाही ने तो एसएसपी की हाथ की उंगली को दांत से काट लिया जबकि दूसरे ने उनके कंधे पर प्रहार किया और तीसरे ने एससपी को तीन-चार चांटे भी जड़ दिए। इसी बीच एएसपी शाक्य की पत्नी ने जब गाड़ी से उतरकर बीच-बचाव करने की कोशिश की, तो उनका भी हाथ पकड़कर सिपाहियों ने धक्का मार दिया।

आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज
इधर, टीटी नगर पुलिस ने एडिशनल एएसपी बी एम शाक्य की शिकायत पर तीनों आरोपी कॉन्स्टेबल विनोद पाराशर (ट्रैफिक), अनिल जाट (डीआरपी) और 25वीं बटॉलियन के एसएएफ अवधेश चौधरी के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। जानकारी के अनुसार अनिल जाट पहले से ही निलंबित है। वह 2019 में देह व्यापार के एक रेड में पकड़ा गया था।

    Load More Related Articles
    Load More By Nalanda Live
    Load More In खास खबरें

    Leave a Reply

    Check Also

    चपरासी से TTE में हुआ प्रमोशन तो बन गया ‘नरपिचाश’… जानिए पूरी वारदात

    नालंदा जिला में महज एक शख्स महज कुछ पैसे के लिए नरपिचाश बन गया। जिसके साथ सात जन्मों तक सा…