BPSC में 15वीं रैंक लाने वाले नालंदा के प्रियब्रत रंजन को जानिए

0

नालंदा के एक और लाल ने कमाल कर दिखाया है. नालंदा के बेटे प्रियब्रत रंजन को बीपीएससी यानि बिहार लोक सेवा आयोग में 15वां रैंक मिला है। प्रियब्रत रंजन बिहारशरीफ़ प्रखंड के मुरौरा गांव के रहने वाले हैं. उनकी इस सफलता से पूरे गांव में खुशी है

संघर्ष से पाया मुकाम

काफी संघर्ष के बाद प्रियब्रत ने ये मुकाम हासिल किया है. बीपीएससी की तैयारी के दौरान ही उनके पिता का निधन हो गया. प्रियब्रत के पिता कुमार नरेश सिन्हा कैंसर से पीड़ित थे. उनका इलाज चल रहा था. प्रियब्रत अपने पापा को लेकर काफी परेशान रहता था. लेकिन एक दिन उसके पिता साथ छोड़कर चले गए. सिर से पिता का साया उठ जाने के बाद मानों प्रियब्रत पर दुखों का पहाड़ टूट गया. लेकिन प्रियब्रत ने ठान लिया था कि उसकी सफलता ही पिताजी को सच्ची श्रद्धांजलि होगी. फिर क्या था प्रियब्रत ने प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी में दिन रात एक कर दिया. प्रियब्रत को कठोर परिश्रम की वजह से सफलता मिली. अब इसे वो अपने पापा को सच्ची श्रद्धांजलि बता रहा है.

इसे भी पढ़िए-BPSC के टॉपर बने संजीव कुमार सज्जन, दूसरे स्थान पर रहीं शाकंभरी चंदन

प्रियब्रत की पढ़ाई लिखाई कहां से हुई

प्रियब्रत रंजन की प्रारंभिक शिक्षा साहेबगंज से हुई। साहेबगंज के संत जेवियर हाईस्कूल से प्रियब्रत ने मैट्रिक की परीक्षा पास की। फिर वहीं से इंटर की भी परीक्षा पास की. प्रियब्रत को इंटर में 79 प्रतिशत अंक आए थे. जिसके बाद वो स्नातक की पढ़ाई के लिए दिल्ली चला आया.

इसे भी पढि़ए- BPSC की सेकेंड टॉपर शाकंभरी चंदन के बारे में जानिए

किरोड़ीमल कॉलेज से बीएससी किया

स्नातक की पढ़ाई प्रियब्रत ने दिल्ली विश्वविद्यालय के किरोड़ीमल कॉलेज से की. प्रियब्रत ने रसायनशास्त्र यानि केमेस्ट्री में ग्रेजुएशन किया. फिर प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी में जुट गया

इसे भी पढ़िए-अच्छी खबर- UPSC और BPSC में PT पास करो इनाम पाओ

भूगोल से पास की परीक्षा

ग्रेजुएशन की पढ़ाई प्रियब्रत ने रसायनशास्त्र में की. लेकिन बीपीएससी के लिए उसने भूगोल को चुना. प्रियब्रत ने भूगोल यानि ज्योग्रेफी से बीपीएससी मेन्स का एग्जाम दिया. प्रियब्रत को तीसरे प्रयास में ये सफलता मिली

परिवार का सहयोग

अपनी सफलता का श्रेय प्रियव्रत ने अपनी मां रमा सिन्हा को दिया. जिसने पिता के निधन के बावजूद चट्टान की तरह प्रियब्रत के साथ खड़ी रहीं. प्रियब्रत के बड़े भाई सत्यव्रत रंजन भी दिल्ली में रहते हैं. उन्होंने भी दिल्ली विश्वविद्यालय से कानून की पढ़ाई की और नोएडा की एक कंपनी में कार्यरत हैं. प्रियब्रत की बहन पूनम सिन्हा बीजेपी की स्थानीय नेता हैं और बिहार बीजेपी महिला की उपाध्यक्ष हैं.

इसे भी पढ़िए- BPSC 56वीं-59वीं तक फाइनल रिजल्ट देखें, कौन-कौन बने SDM, DSP, BDO

किसानों के लिए काम करना चाहते हैं प्रियव्रत

प्रियब्रत रंजन ने बीपीएसपी में 15 वां स्थान हासिल किया है. उनका चयन बिहार प्रशासनिक सेवा के लिए हुआ है. यानि वो एसडीएम बनेगें. प्रियब्रत का कहना है कि वो किसानों के लिए काम करना चाहते हैं. उनका मानना है कि कृषि क्षेत्र में विकास के बिना बिहार समृद्ध नहीं होगा.

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In जॉब एंड एजुकेशन

Leave a Reply

Check Also

चपरासी से TTE में हुआ प्रमोशन तो बन गया ‘नरपिचाश’… जानिए पूरी वारदात

नालंदा जिला में महज एक शख्स महज कुछ पैसे के लिए नरपिचाश बन गया। जिसके साथ सात जन्मों तक सा…