BPSC 67वीं PT परीक्षा रद्द.. जानिए क्यों और किसे सौंपा गया जांच का जिम्मा

0

बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) की 67वीं PT परीक्षा को रद्द कर दिया है। रविवार यानि 8 मई 2022 को ही बिहार लोक सेवा आयोग द्वारा प्रारंभिक परीक्षा का आयोजन किया गया था । लेकिन प्रश्न पत्र लीक होने की वजह से बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) ने 67वीं संयुक्त प्रारंभिक परीक्षा को रद्द कर दिया है।

एक घंटे पहले लीक हो गया पेपर
दरअसल, पीटी परीक्षा शुरू होने के एक घंटे पहले ही सोशल मीडिया के अलग-अलग ग्रुप में पेपर लीक हो गया था। हालांकि इसे शुरुआती में फर्जी और गलत बताया गया । लेकिन परीक्षा खत्म होने के बाद वायरल प्रश्न पत्र से मूल प्रश्न पत्र का मिलान कराया गया तो दोनों में प्रश्न समान थे. यानि जो पेपर सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा था वो सही था।

तीन सदस्यीय जांच कमेटी का गठन
पेपर लीक होने की ख़बर मीडिया में प्रसारित होने पर बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) के अध्यक्ष आरके महाजन ने तीन सदस्यीय जांच कमेटी गठित कर 24 घंटे के अंदर रिपोर्ट देने का निर्देश दिया था. इसके बाद जांच कमेटी ने कुछ घंटों के भीतर ही अपनी रिपोर्ट आयोग के अध्यक्ष को सौंप दी. जिसके बाद परीक्षा रद्द करने का निर्णय लिया गया.

आरा में छात्रों का हंगामा
आरा के वीर कुंवर सिंह कालेज परीक्षा केंद्र पर परीक्षार्थियों ने पेपर लीक के आरोप में हंगामा कर दिया. छात्रों ने आरोप लगाया कि परीक्षा केंद्र पर कुछ परीक्षार्थियों को मोबाइल के साथ परीक्षा केंद्र में घुसने की इजाजत दी गई थी. उन्हें समय से पहले ही प्रश्नपत्र लीक कर दिया गया था, तथा एक खास कमरे में अलग से बैठाकर परीक्षा ली गई. जबकि वहीं दूसरे परीक्षार्थियों को विलंब से प्रश्नपत्र दिया गया था.

कुछ छात्रों को पहले ही दिया गया था प्रश्न पत्र
परीक्षार्थियों का आरोप है की परीक्षा केंद्र कुछ छात्रों को समय से पहले ही प्रश्न-पत्र दे दिए गया था. उन लोगों की नीचे के दो अलग कमरों में बिठाया गया था. वहीं जब परीक्षा का समय शुरू हो गया और छात्रों को कुछ मिनट तक प्रश्न पत्र नहीं मिला तब परीक्षार्थियों ने हंगामा करना शुरू कर दिया. जहां पहले से कुछ परीक्षार्थियों को प्रश्न पत्र दे दिया गया था. और वो प्रश्न पत्र हल कर रहे थे इसके साथ ही उनके पास मोबाईल भी था. इसके बाद छात्रों ने परीक्षा केंद्र के गेट पर जमकर हंगामा किया.

आगे की जांच के लिए साइबर सेल से मदद
घटना की सूचना पाकर भोजपुर के डीएम रोशन कुशवाहा ने परीक्षा केंद्र पर पहुँच कर सभी प्रश्न पत्रों को सील करवा दिया. डीएम ने कहा कि परीक्षार्थियों से लिखित शिकायत मांगी गई है. उन्‍होंने कहा कि जांच रिपोर्ट के आधार पर अंतिम फैसला बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) करेगा. इसके कुछ ही घंटों बाद जांच कमेटी की रिपोर्ट मिलने के बाद आयोग ने परीक्षा रद्द कर दी. मामले में आगे की जांच के लिए साइबर सेल की मदद ली जाएगी.

12:20 तक पेपर नहीं मिला था
वहीं इलाहाबाद से परीक्षा देने आई प्रिया सिंह ने बताया कि उनके बगल वाले कमरे में पेपर दी गई थी। वहां कैंडिडेट्स बैठकर परीक्षा दे रहे थे। लेकिन और सभी परीक्षार्थियों को पेपर नहीं दिया गया था। उन्होंने ने बताया कि 12:20 तक पेपर नहीं मिला था, वहीं नीचे के दो कमरों को बंद करके परीक्षा ली जा रही थी। वहीं एक युवक यह आरोप लगाया है कि हमें बार बार टेक्निकल गड़बड़ी बता कर पेपर नहीं दी जा रही थी। जब हम सभी नीचे आए तो देखे वहां दो कमरे को नींद करके परीक्षा ली जा रही है। जिसके बाद हम लोगों ने सवाल पूछना शुरू कर दिया।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In खास खबरें

Leave a Reply

Check Also

दुल्हनिया संग हनीमून मनाने चले तेजस्वी यादव.. आरजेडी में मचा है घमासान

तेजस्वी यादव अपनी पत्नी राजश्री के साथ लंदन रवाना हो गए हैं। शादी के बाद ये उनकी पहली विदे…