प्रखंड विकास पदाधिकारी (BDO)की मौत… सोमवार को ही संभाला था कामकाज

0

कोरोना वायरस कितना खतरनाक है इसका अंदाजा इस बात से लगा सकते हैं कि कई लोगों की मौत पोस्ट कोरोना संक्रमण हो रही है । यानि वैसा व्यक्ति जो कोरोना पॉजिटिव हुआ था और बाद में ठीक हो गया था । लेकिन कुछ दिन बाद सांस लेने में दिक्कत हुआ या अन्य परेशानी हुई और उनकी मौत हो गई। खास बात ये है कि कोरोना पॉजिटिव होने के बाद वो छुट्टी पर थे और सोमवार को ही उन्होंने योगदान दिया था।

प्रखंड विकास पदाधिकारी की मौत
बिहार प्रशासनिक सेवा के अधिकारी नवल किशोर ठाकुर की अचानक मौत हो गई है । जिससे उनके परिवारवालों पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। उनकी पत्नी नीतू का रो-रोकर बुरा हाल और तीन साल की एक बेटी है । जो बार-बार ये कह रही है कि पापा उठो ना। 3 साल की नयन को समझ में नहीं आ रहा है कि पापा क्यों नहीं जाग रहे हैं । वो कभी पापा के गाल को चुंबती है तो कही हाथ पकड़कर उठाने की कोशिश करती है ।

इसे भी पढि़ए-रिजल्ट की खुशी मनाने से पहले अविनाश की मौत, BPSC में पास होने पर रोया पूरा परिवार

विदाई समारोह में हिस्सा लेने के बाद बिगड़ी तबियत
सुल्तानगंज प्रखंड मुख्यालय के कर्मचारियों के मुताबिक सोमवार को रोजाना की तरह ही उन्होंने मुख्यालय में कामकाज संभाला। इसके बाद पंचायती राज पदाधिकारी रमेश कुमार के विदाई समारोह में शामिल हुए। विदाई समारोह को संबोधित करते वक्त प्रखंड विकास पदाधिकारी की तबीयत बिगड़ने लगी। वे काफी भावुक हो गए थे। जिसके बाद वो घर चले गए। देर रात अचानक उन्हें सांस लेने में तकलीफ होने लगी। परिजनों ने तुरंत ऑक्सीजन लगाई और बेहतर इलाज के लिए अस्पताल ले गए । लेकिन जैसे ही वो सुल्तानगंज के रेफरल अस्पताल पहुंचे डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।

इसे भी पढ़िए-नालंदा जिला में फिर लगा 30 दिनों का  लॉकडाउन.. क्या क्या बंद करने का ऐलान

पटना हुआ था ट्रांसफर
नवल किशोर ठाकुर भागलपुर के सुल्तानगंज के बीडीओ थे। पिछले साल 3 अगस्त को उन्होंने सुल्तानगंज में प्रखंड विकास पदाधिकारी के तौर पर योगदान दिया था। लेकिन एक साल का कार्यकाल पूरा होने से पहले उनका तबादला पटना कर दिया गया था। राज्य सरकार ने निर्देश जारी कर उन्हें मुख्यालय बुला लिया गया था। हालांकि अभी उन्होंने योगदान नहीं दिया था।

इसे भी पढ़िए-शिवानी की बिहार दारोगा में ज्वॉइनिंग से पहले मौत.. वैक्सीन पर उठे सवाल !

कोरोना संक्रमित हुए थे नवल किशोर ठाकुर
सुल्तानगंज के प्रखंड विकास पदाधिकारी नवल किशोर ठाकुर ड्यूटी के दौरान ही कोरोना संक्रमित हो गए थे। हालत खराब होने पर उन्हें पटना में भर्ती कराया गया था। जिसके बाद वे पूरी तरह से ठीक हो गए थे, लेकिनसंक्रमण के बाद उन्हें थोड़ी कमजोरी थी। जिसके बाद वो घर में भी ऑक्सीजन रखते थे ताकि जरुरत पड़ने पर इस्तेमाल किया जा सके।

सहरसा के रहने वाले थे ठाकुर
सुल्तानगंज के BDO नवल किशोर ठाकुर सहरसा जिला के नवारा प्रखंड के मकवा गांव के रहने वाले थे। उनके निधन की खबर मिलते ही गांव में मातम पसर गया। वे होनहार और युवा अधिकारी थे। लेकिन कोरोना ने उन्हें हम सब से छीन लिया

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In पुलिस प्रशासन

Leave a Reply

Check Also

नालंदा का स्कूल संचालक निकला दरिंदा.. स्कूल में युवक को जिंदा जलाकर मार डाला

नालंदा जिला में एक खौफनाक वारदात सामने आई है । जहां स्कूल संचालक ने एक युवक को जिंदा जलाकर…