बिहार के चार शहरों में रिंग रोड बनाने के प्रस्ताव को केंद्र से मंजूरी.. जानिए, किस किस शहर में बनेंगे रिंग रोड

0

बिहारवासियों के लिए अच्छी खबर है । बिहार के चार शहरों में जल्द ही रिंग रोड बनाए जाएंगे। बिहार सरकार के प्रस्ताव को केंद्र सरकार ने हरी झंडी दे दी है । जिसके बाद नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया( NHAI) चार शहरों में रिंग रोड बनाने का खाका तैयार करेगी

बिहार सरकार ने की थी मांग
दरअसल, बिहार के पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन ने केंद्रीय सड़क निर्माण मंत्री नितिन गडकरी से मुलाकात की थी। जिसमें चारों शहरों में रिंग रोड बनाने की मांग की थी । उन्होंने केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से कहा कि राजधानी पटना के अलावा राज्‍य के कई महत्‍वपूर्ण शहरों में ट्रैफिक जाम की समस्‍या के कारण लोगों को काफी प‍रेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

किन-किन शहरों में बनेगा रिंग रोड
बिहार सरकार ने राज्य के चार शहरों में रिंग रोड बनाने का प्रस्ताव दिया था । अभी सिर्फ राजधानी पटना में रिंग रोड का निर्माण चल रहा है । जिसका निर्माण एनएचएआई द्वारा कराया जा रहा है। अब चार और शहर में रिंड रोड बनाने के प्रस्ताव को मंजूरी मिल गई है। बिहार सरकार ने जिन चार शहरों में रिंग रोड बनाने का प्रस्ताव दिया है उसमें मुजफ्फरपुर, दरभंगा, भागलपुर और गया का नाम शामिल है । केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने एनएचएआई के अध्यक्ष को प्रस्‍तावित इन चारों शहरों में रिंग रोड के लिए फिजिबिलिटी रिपोर्ट तैयार करने को कहा है।

इसे भी पढ़िए-ईंट भट्टा के लाइसेंस के लिए बना नया नियम.. जानिए पुराने ईंट भट्टों का क्या होगा

चारों शहर में रिंग रोड बनाने के पीछे तर्क
गया बिहार का दूसरा सबसे बड़ा शहर है। साथ ही एक अंतरराष्ट्रीय धार्मिक एवं पर्यटक स्‍थल है। यहां हिन्‍दु, बौद्ध एवं जैन धर्मावलम्बियों का मिलन स्‍थल है । गया में बाईपास या रिंग रोड नहीं रहने से बौद्ध महोत्‍सव, पितृपक्ष आदि अवसरों पर देश-विदेश से आने वाले तीर्थयात्रियों/पयर्टकों को आवागमन में काफी असुविधा होती है।

इसे भी पढ़िए-जैन और बुद्ध सर्किट को जोड़ेगा रेलवे.. जानिए कहां से कहां तक बिछेगी नई रेललाइन.. जानिए

भागलपुर बिहार का तीसरा सबसे बड़ा शहर है। शहर में ट्रैफिक जाम से मुक्ति के लिए रिंग रोड की आवश्‍यकता है।

इसे भी पढ़िए-बिहारशरीफ-जहानाबाद रेललाइन पर कहां कहां बनेंगे स्टेशन.. तीन जंक्शन का भी होगा निर्माण

वहीं दरभंगा शहर बिहार के प्राचीनतम शहरों में एक है और पांचवां सबसे बड़ा शहर है। इसे बिहार की सांस्‍कृतिक राजधानी भी कहा जाता है। उत्‍तर बिहार में दरभंगा एकमात्र ऐसा शहर है जहॉं व्‍यवसायिक एयरपोर्ट की सुविधा उपलब्‍ध है। यहां कोई बाईपास/रिंग रोड नहीं रहने के कारण शहर में जाम की समस्‍या हमेशा बनी रहती है।

इसे भी पढ़िए- कहां-कहां से गुजरेगी आमस-दरभंगा फोरलेन.. जानिए 

वहीं, मुजफ्फरपुर शहर से होते हुए उत्‍तर बिहार के कई जिलों में आना जाना होता है। इस कारण इस शहर पर वाहनों का दबाव अधिक है। शहर में जाम की समस्‍या से आम ना‍गरिकों को परेशानी हो रही है।

इसे भी पढ़िए-खुशखबरी.. ग्रेटर पटना का खाका तैयार.. 3 साल में बदल जाएगी राजधानी की तस्वीर

रिंग रोड की जरूरत क्यों
रिंग रोड के लिए चयनित चारों शहर राज्‍य के प्रमुख जिले हैं। बाहर से आने वाली गाड़ियों को अनावश्‍यक रूप से शहर से होकर गुजरना पड़ता है। इससे शहरवासियों को जाम की समस्‍या से जूझना पड़ रहा है। इस रिंग रोड पर यातायात सम्‍पर्कता हेतु फीडर रोड को भी अपग्रेड करने का प्रस्‍ताव है। साथ ही हाल के वर्षों में यातायात घनत्‍व में अप्रत्‍याशित वृद्धि होने के कारण इन शहरों में रिंग रोड की आवश्यकता महसूस की जा रही है।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In बढ़ता बिहार

Leave a Reply

Check Also

दुल्हनिया संग हनीमून मनाने चले तेजस्वी यादव.. आरजेडी में मचा है घमासान

तेजस्वी यादव अपनी पत्नी राजश्री के साथ लंदन रवाना हो गए हैं। शादी के बाद ये उनकी पहली विदे…