सूखा राहत में फर्जीवाड़ा, एक जमीन पर कई किसानों ने किए आवेदन

0

सूखा राहत में बड़े पैमाने पर धांधली सामने आ रही है । इसका खुलासा सुखाड़ राहत के लिए आए आवेदनों की जांच में हुआ। जांच में पाया जा रहा है कि एक ही परिवार के कई लोगों ने एक ही जमीन का ब्योरा देकर सुखाड़ राहत पाने के लोभ में आवेदन कर दिया है।

किसान सलाहकार के हाथपांव फूले
शेखपुरा जिला में सूखा राहत को लेकर आवेदनों की जांच के दौरान बड़े पैमाने पर गड़बड़ियां सामने आ रही है। जिससे किसान सलाहकारों के भी हाथ-पांव फुल रहे हैं। सबसे ज्यादा मामले अरियरी और चेवाड़ा में देखने को मिल रहा है। हालांकि ये समस्या सभी प्रखंडों में है। सुखाड़ राहत में एक साल का अद्यतन रसीद मांगे जाने के कारण हद तक इन गड़बड़ियों पर लगाम लग रही है। किसान सलाहकारों का कहना है कि सही कारण है कि किसानों को जमीन मिलान के बाद कम रुपया मिल रहा है। आवेदन में गड़बड़ी इस आंकड़े से भी साबित हो जाती है कि जिला में 25 हजार हेक्टेयर में धनरोपनी का लक्ष्य निर्धारित किया गया था। पर कम बारिश के कारण 20 हजार हेक्टेयर में ही धनरोपनी हो पायी थी। किसानों के किये गये ऑनलाइन आवेदन में 28 हजार हेक्टर में फसल क्षति के लिए आवेदन दिया गया है। यदि शत प्रतिशत भी फसल क्षति हुई हो तो भी 20 हजार हेक्टेयर से आकड़ा आगे नहीं जा रहा है।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In शेखपुरा

Leave a Reply

Check Also

बिहार बोर्ड के 10वीं और 12वीं कंपार्टमेंटल के सभी छात्र पास. चेक कीजिए अपना रिजल्ट

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति (BSEB) ने 10वीं और 12वीं कम्पार्टमेंटल परीक्षा Bihar Board 10…