रेलवे ने मानी गलती, बदलना पड़ा दनियावां-शेखपुरा रेलखंड पर स्टेशन का नाम

0

अक्सर कहा जाता है- कौन कहता है कि आसमान में छेद नहीं हो सकता.. बस एक पत्थर तो तबियत से उछालो दोस्तों.. जी हां, ऐसा ही कुछ कर दिखाया है बरबीघा के सर्वा गांव के रहने वाले कुंदन ने। जिसकी मुहिम के सामने आखिरकार रेलवे को झुकना ही पड़ा। तीन साल तक फाइल इस टेबल से उस टेबल तक धूल फांकती रही। लेकिन वो स्टेशन का नाम बदलने की जिद पर अड़ा था और आखिरकार रेल विकास निगम लिमिटेड को स्टेशन का नाम बदलना पड़ा ।

क्या है मामला
दरअसल, दनियावां-शेखपुरा रेलखंड पर शेखपुरा जिले के बरबीघा प्रखंड के एक रेलवे स्टेशन का नाम रेल विकास निगम लिमिटेड ने संशोधित किया। साथ रेल विभाग को अपनी गलती माननी पड़ी और स्टेशन का नाम बदलना पड़ गया। यह पूरा मामला दनियावां – शेखपुरा रेल परियोजना के तहत शेखपुर और बरबीघा के बीच रेल लाइन में जमालपुर के पास बने सरसा जमालपुर रेल स्टेशन से जुड़ा हुआ है।

इसे भी पढ़िए-बिहारशरीफ-जहानाबाद रेललाइन पर कहां कहां बनेंगे स्टेशन.. तीन जंक्शन का भी होगा निर्माण

रेलवे ने रखा था नाम
रेल स्टेशन का नाम सरसा जमालपुर रेल स्टेशन रख दिया गया । जबकि यह पूरा जमीन सर्वा गांव का जुड़ा हुआ था और यहां के ग्रामीणों की खेत और जमीन इसमें गई थी और इसलिए गांव वालों की मांग थी कि गांव के नाम पर सर्वा- जमालपुर इसका नाम होना चाहिए। रेलवे विभाग में भूल बस सरसा नाम कर दिया था।

इसे भी पढ़िए-सिर्फ एक गांव के चक्कर में फंसा नेऊरा-दनियावां और बरबीघा-शेखपुरा रेलखंड परियोजना.. जानिए पूरा मामला

कुंदन ने दिया था आवेदन
इसके बाद सर्वा गांव के रहने वाले कुंदन सिंह ने इस संबंध में आवेदन दिया गया था । जिसमें दनियावां भाया बिहारशरीफ- शेखपुरा नई रेल लाइन के इस रेलवे स्टेशन के नाम बदलने की मांग की गई थी। यह रेल लाइन अभी निर्माणाधीन है। यहां से आगे बरबीघा नगर में रेलवे विस्तार का काम अभी जमीन अधिग्रहण विवाद में लंबित पड़ा हुआ है ।लेकिन जमालपुर रेलवे स्टेशन बनकर तैयार है।

इसे भी पढ़िए-नालंदा के डीएम की पत्नी नवादा की जिलाधिकारी.. जानिए, IAS पति-पत्नी की कहानी

 मुहिम ने दिखाया रंग
इसी रेलवे स्टेशन के नाम को बदलने के लिए कुंदन सिंह ने विभिन्न जगहों पर आवेदन दिया। जिसके बाद रेलवे विभाग ने अपनी गलती मानी। इसी को लेकर रेल विकास निगम लिमिटेड के अतिरिक्त महाप्रबंधक के द्वारा इसकी सूचना यहां के अधिकारी और डीजीएम और एचआर को दिया गया है। यह मामला तीन वर्षों से चल रहा था। आखिरकार ग्रामीणों ने रेलवे स्टेशन का नाम बदलवाने के लिए छेड़े गए मुहिम को जीत में परिणत करने सफल हुए।

इसे भी पढ़िए-एलोवेरा की खेती कर आत्मनिर्भर बना एक गांव.. अब एलोवेरा विलेज के नाम से जानते हैं लोग

भूल सुधार में रेलवे ने क्या कहा
रेल विकास निगम लिमिटेड ने अपने आदेश में कहा कि जांच में बरबीघा के अंचलाधिकारी द्वारा ये सुनिश्चित किया गया है कि परियोजना दनियावां-बिहारशरीफ नई बड़ी रेल लाइन निर्माण के अंतगर्त आने वाली स्टेशन का नाम सर्वा है सरसा जमालपुर नहीं। अत: उन्होंने अनुरोध किया है कि स्टेशन सरसा जमालपुर का नाम सर्वा कर दिया जाय

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In काम की बात

Leave a Reply

Check Also

दुल्हनिया संग हनीमून मनाने चले तेजस्वी यादव.. आरजेडी में मचा है घमासान

तेजस्वी यादव अपनी पत्नी राजश्री के साथ लंदन रवाना हो गए हैं। शादी के बाद ये उनकी पहली विदे…