महापर्व छठ: खरना और अर्घ्य का समय जानिए.. कितने बजे सूर्योदय और सूर्यास्त होगा

0

महापर्व छठ का आज दूसरा दिन है। जिसे खरना के नाम से जाना जाता है. वहीं, कल यानी तीसरे दिन डूबते हुए सूर्य की पूजा और चौथे दिन उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देने साथ ही ये महापर्व संपन्न हो जाएगा. सूर्योपासना के इस पवित्र चार दिवसीय महापर्व के पहले दिन छठव्रती श्रद्धालु नर-नारियों ने अंत:करण की शुद्धि के पहले दिन नहाय खाय (Nahay Khay) किया और आज खरना है. आपको खरना और अर्घ्य के समय के बारे में बताएं उससे पहले आपको खरना के महत्व और इसकी पूजन विधि के बारे में बताते हैं

खरना का महत्व
आज व्रती सूर्योदय से सूर्यास्त तक एक कठिन निर्जला व्रत करेंगे. इस व्रत में नमक और चीनी का प्रयोग वर्जित है और प्रसाद के लिए गुड़ की खीर बनती है. वही प्रसाद के रूप में वितरित की जाती है. इसे खरना कहा जाता है. कार्तिक शुक्ल पंचमी को यह व्रत रखा जाता है. आज के दिन प्रसाद के रूप में रोटी और खीर ग्रहण करने की ही परंपरा है.

खरना का प्रसाद
खरना में मुख्य रूप से गुड़ की खीर और रोटी ही प्रसाद में बनता है. हालांकि इसके अलावा खरना की पूजा में मूली और केला भी रखकर पूजा की जाती है. छठ व्रती प्रसाद में केला और मूली खाते भी हैं. भोग लगाने के बाद ही प्रसाद को व्रती ग्रहण करते हैं और जब तक चांद नजर आए तब तक पानी पीते हैं. इसके बाद से उनका करीब 36 घंटे का निर्जला व्रत शुरू होता है. लोक आस्था के इस महापर्व के तीसरे दिन व्रतधारी अस्ताचलगामी (डूबते हुए) सूर्य को नदी और तालाब में खड़े होकर प्रथम अर्घ्य अर्पित करते हैं.

खरना का समय क्या है
आज यानि 9 नवंबर को खरना है। ये कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को होता है. आज सूर्योदय 6 बजकर 03 मिनट पर है और सूर्यास्त 5 बजकर 04 मिनट पर होगा. यानि 5 बजकर 4 मिनट के बाद ही खरना होगा।

पहली अर्घ्य कब होगा
10 नवंबर यानि बुधवार को डूबते सूर्य को अर्घ्य दिया जाएगा। पिछले साल की तुलना में इस बार 10 मिनट पहले सूर्यास्त होगा। यानि इस बार सूर्यास्त 5 बजकर 03 मिनट पर होगा और इससे पहले ही भगवान भाष्कर को अर्घ्य दिया जाएगा।

इसे भी पढ़िए-देश भर में क्यों मशहूर है बड़गांव का छठ, जानिए बड़गांव का इतिहास

सुबह का अर्घ्य कब होगा
11 नवंबर को उगते सूर्य को अर्घ्य दिया जाएगा। कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि होती है. इस दिन सूर्योदय के समय सूर्य देव को अर्घ्य अर्पित किया जाता है. उसके बाद पारण कर व्रत को पूरा किया जाता है. इस दिन सूर्योदय 6 बजकर 04 मिनट पर होगा । यानि 6 बजकर 04 मिनट पर भगवान सूर्य को अर्घ्य अर्पित किया जाएगा। उसके बाद व्रती अपना व्रत तोड़ेगे।

इसे भी पढ़िए-बिहार में सुधा दूध महंगा हुआ.. जानिए कितनी बढ़ी कीमतें

छठी मईया सबका कल्याण करें
नालंदा लाइव परिवार की ओर से महापर्व छठ की सभी को शुभकामनाएं। साथ ही छठी मईया से प्रार्थना करता है सभी का कल्याण हो। सभी लोगों के जीवन में खुशहाली आए। छठी मईया सबको संपन्न बनाएं।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In धर्म अध्यात्म

Leave a Reply

Check Also

पुलिस बनकर सोना कारोबारी को लूटा, पुलिस वर्दी में थे लुटेरे

स्वर्ण व्यवसायी से लूट की दो बड़ी वारदात सामने आई है । जिसमें एक में तो लुटरे पुलिस वर्दी …