Home हेल्थ पान की डंटी करता है गर्भनिरोधक का काम.. और क्या हैं फायदे, जानिए

पान की डंटी करता है गर्भनिरोधक का काम.. और क्या हैं फायदे, जानिए

0
पान के फायदे,गर्भनिरोधक का करता है पानी की डंटी,प्रोफेसर विभूति नारायण सिंह,कैंसर में भी उपयोगी है पान की डंटी,Betel stick,Amazing use of betel stick,betel stick for Family planning,पान की डंटी,# जनसंख्या नियंत्रण,# चमत्कार,# रिसर्च,# News, #National News,professor vibhuti narayan singh,tnb university

हम सब पान के शौकीन हैं। अक्सर माउथ फ्रेंशनर के तौर पर पान का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन पान की डंटी गर्भ निरोधक का काम करता है । ये पढ़कर आप चौंक गए होंगे। लेकिन ये सच है। नए शोध के मुताबिक पान की डंटी के रस का नियमित सेवन करने से अनचाहे गर्भ से छुटकारा मिल सकता है। ये शोध टीएनबी यूनिवर्सिटी के जुलॉजी के प्रोफेसर विभूति नारायण सिंह ने किया है। उन्होंने ये शोध पहले चूहों पर किया। उनका ये शोद नेशनल और इंटरनेशन जनरल में प्रकाशित हो चुका है । अब इस शोध को मान्यता भी मिल गई है।

शोध में क्या हुआ खुलासा
जनसंख्या नियंत्रण के लिए पुरुष कंडोम या नसबंदी का सहारा लेते रहे हैं। नसबंदी करा लेने से आजीवन बच्चा पैदा नहीं हो सकता है। जबकि कंडोम आमलोगों के लिए महंगा साबित होता है। लोग इसे खरीदने से झिझकते भी हैं। लेकिन प्रोफेसर विभूति नारायण सिंह के मुताबिक पुरुष जब तक पान की डंटी के रस का सेवन करेंगे तब तक बच्चा नहीं होगा। जब बच्चे की इच्छा हो तब रस पीना बंद कर दें। उनका कहना है कि गर्भ निरोधक गोलियों का साइड इफेक्ट शरीर पड़ता है जबकि पान की डंटी के रस का कोई दुष्प्रभाव नहीं है।

इसे भी पढ़िए-अगर सांप काटे तो सबसे पहले क्या करें.. जानिए

सफेद चूहों पर  प्रयोग सफल रहा
इसके लिए प्रोफेसर विभूति नारायण सिंह की टीम ने छह सफेद चूहों पर पान की डंटी का सफल प्रयोग किया। इन चूहों को 0.15 मिलीग्राम पान की डंटी का रस मुंह के द्वारा पिलाया गया। दसवें दिन देखा गया कि चूहों में स्पर्म और सीमेन का पीएच वैल्यू कम हो गया। इस तरह 20वें, 30वें, 40वें और 50वें दिन धीरे-धीरे मेल का स्पर्म कम होता गया। उसका मूवमेंट भी कम हो गया। सीमेन का पीएच मान कम हो गया। प्रजनन क्षमता घट गई। इसके अलावा छह और चूहों को बिना कुछ किए छोड़ दिया गया। 50वें दिन देखा गया कि जिसे रस पिलाया गया था, उसमें शुक्राणु की संख्या कम हो गई थी। जिसे छोड़ दिया गया था उसमें शुक्राणु बरकरार था। इसके बाद प्रयोग किए गए चूहों को पान की डंटी का रस पिलाना बंद कर दिया गया। जिसके बाद देखा गया कि शुक्राणु की संख्या धीरे-धीरे बढऩे लगी। चूहों पर दो साल तक लगातार प्रयोग किया गया।

इसे भी पढ़िए-सावधान… बिहारशरीफ में जानलेवा डेंगू ने पसारे पैर, लक्षण और बचाव.. जानिए

कैंसर की संभावना को भी कम करता है
प्रोफेसर विभूति नारायण सिंह का कहना है कि पान की डंटी का रस गर्भ निरोधक में कारगर है। प्रति किलो शरीर के वजन के हिसाब से पुरुष 50 मिलीग्राम पान की डंटी के रस का सेवन कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि पान की डंटी के रस के सेवन से कैंसर होने की संभावना कम रहती है। किसी भी प्रकार के सूजन में फायदेमंद है। लीवर को फायदा पहुंचाता है। यह एंटी ऑक्सीडेंट हैं। एलर्जी को ठीक करता है। पेट की बीमारी में फायदेमंद है। पान की डंटी सभी जगह उपलब्ध है। गरीब से गरीब लोग भी इसका सेवन आसानी से कर सकते हैं।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In हेल्थ

Leave a Reply

Check Also

बिहार में कई जिलों के सिविल सर्जन बदले गए.. जानिए किनका कहां हुआ तबादला

बिहार चुनाव से पहले अफसरों के तबादले का सिलसिला लगातार जारी है. बिहार में कई डॉक्टरों का त…