बिहारशरीफ स्टेशन और बस स्टैंड में यात्रियों को लूटने वाले गिरोह का भंडाफोड़

0

बिहारशरीफ रेलवे स्टेशन और बस स्टैंड में यात्रियों को निशाना बनाने वाले गिरोह का भंडाफोड़ हुआ है। नालंदा पुलिस ने गिरोह के दो अपराधियों को गिरफ्तार किया है । उनके पास से 10 लाख रुपए से ज्यादा के आभूषण बरामद हुए हैं। खास बात ये गिरोह शहर में कार से घूमता था और यात्रियों को निशाना बनाता था।

बाहर से आने वाले यात्रियों का बनाता था निशाना
ये गिरोह दूसरे प्रदेश से लौटने वाले प्रवासियों को निशाना बनाता था। मामले का भंडाफोड़ कैसे हुआ । इसके लिए आपको बता दें कि 7 जून को श्रमजीवी एक्सप्रेस से एक परिवार दिल्ली से लौटा था। जैसे ही सत्येंद्र सिंह बिहारशरीफ रेलवे स्टेशन पर उतरे वे टेंपो का इंतजार करने लगे। तभी इस गिरोह वाले ने उसे निशाना बनाया। अपराधी कार में सवार थे।

कार में बैठाकर लूटपाट 
दोनों ने कहा कि वे अपनी गाड़ी से उन्हें उनका घर छोड़ देंगे। जिसके बाद सत्येंद्र सिंह भी गाड़ी में बैठ गए। कुछ दूर चलने के बाद अपराधियों ने मारपीट कर सत्येंद्र सिंह से एटीएम और मोबाइल छीन लिया एवं गाड़ी से उतारकर खुद हरनौत की ओर निकल गया। जिसके बाद सत्येंद्र सिंह ने बिहार थाना में मुकदमा दर्ज कराया

इसे भी पढ़िए-बारिश से बेहाल हुआ बिहारशरीफ.. घर और दुकानों में घुसा पानी

डीएसपी के नेतृत्व में टीम गठित
पुलिस के सामने जैसे ही ये वारदात सामने आई । नालंदा पुलिस एक्शन में आ गई और सदर डीएसपी डॉ शिब्ली नोमानी के नेतृत्व में एक टीम का गठन किया। जिसमें बिहार थानाध्यक्ष संतोष कुमार एवं जेएसआई हेमंत कुमार सुमन सहित अन्य पुलिसकर्मी शामिल थे। फिर तकनीकी आधार पर जांच करते हुए। गिरोह का भंडाफोड़ किया और वारदात में शामिल दो अपराधियों को गिरफ्तार किया । साथ ही लूट में उपयोग किया गया स्विफ्ट डिजायर कार भी बरामद किया।

इसे भी पढ़िए-नालंदा में नाव से आई बारात, नाव से ही दुल्हन की विदाई

क्या क्या बरामद  
दोनों अपराधियों के पास से पुलिस को एक स्विफ्ट डिजायर कार, बुलेट मोटरसाइकिल, 3 मोबाइल सेट, 20 हजार नगद, चार एटीएम तथा एक पैन कार्ड, 06 सोने का लॉकेट, 1 सोने की अंगूठी, 9 जोड़ा कर्णवाली, 3 सोने की चेन, 1 सोने की मांगटीका, सोना के चार मंगल सूत्र, सोना के 2 ढोलन, 1 जोड़ी झुमका, सोना के 4 टॉप, चार जोड़ी कान की झाली और एक जोड़ा सोना की झाली की लड़ी।

कैसे देता था वारदात को अंजाम
सदर डीएसपी डॉ शिब्ली नोमानी ने बताया कि पूछताछ में दोनों अपराधियों ने बताया कि वे यात्रियों को धोखे से अपनी गाड़ी में बैठा लेते थे फिर उसके साथ मारपीट कर सोने चांदी और रुपए छीन लेता था। लुटे गए एटीएम कार्ड एवं डेबिट कार्ड को विभिन्न माध्यमों से रुपए का निकासी कर लेता था।

कौन कौन गिरफ्तार
नालंदा पुलिस ने जिन दो अपराधियों को गिरफ्तार किया है । उसमें एक वेना थाना क्षेत्र के पोरजित गांव के रहने वाले विजय यादव का बेटा गुलशन कुमार और दूसरा नूरसराय थाना क्षेत्र के बेलसर गांव का रहने वाले कृष्णा पासवान का बेटा चंदन कुमार है।

नालंदा लाइव की अपील
ऐसे में नालंदा लाइव ये अपील करता है कि किसी भी अनजान व्यक्ति के साथ कभी यात्रा न करें। खास कर जब आप रेलवे स्टेशन या बस स्टैंड जा रहे हों या बाहर से आप आ रहे हों। क्योंकि ये गिरोह वैसे ही लोगों को निशाना बनाता है। हमेशा कोशिश कीजिए की सार्वजनिक परिवहन का इस्तेमाल करें। झांसे में ना आएं।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In अपराध

Leave a Reply

Check Also

नालंदा में रफ्तार का कहर.. बेकाबू ट्रक ने तीन युवकों रौंदा.. तीनों की मौत

नालंदा जिला में एक बार फिर तेज रफ्तार ने तीन युवकों की जान ले ली है । बताया जा रहा है कि ब…