बिहारशरीफ में तीन डकैत गिरफ्तार.. नकाब पहनकर करता था डकैती.. जानिए कौन कौन गिरफ्तार

0

नालंदा पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है ।सोहसराय पुलिस ने 72 घंटे के भीतर लूट की गुत्थी को सुलझा दिया है। नालंदा पुलिस ने बिहारशरीफ से तीन डकैतों को गिरफ्तार किया है। जो शहर में लूट की वारदात को अंजाम देता था।

क्या है मामला
दरअसल, 30 अक्टूबर को सोहसराय थाना क्षेत्र के पीसीपी कॉलेज के पास बदमाशों ने लूट की वारदात को अंजाम दिया था। बताया जाता है कि पीसीपी कॉलेज के अपॉजिट साइड में गल्ला व्यापारी अनिल कुमार की दुकान है। जहां पांच बदमाश घुसे और हथियार के बल पर लूट की वारदात को अंजाम दिया ।

कैसे हुए पकड़े गए बदमाश
पुलिस को लूट की इस घटना को सुलझाना टेढ़ी खीर की तरह था। पुलिस ने सबसे पहले इलाके के CCTV को खंगाला.. जिसमें एक पल्सर गाड़ी दिखाई दिया। जिस पर नंबर लिखा था BR 21Z 4789. पुलिस ने फिर उसी को सुराग के तौर पर माना और जांच शुरू की..

इसे भी पढ़िए-बैंक मैनेजर और दारोगा के घर भीषण डकैती.. फिल्मी अंदाज में डकैती ..पूरी वारदात CCTV में कैद

कौन-कौन गिरफ्तार
पुलिस ने सबसे पहले वारदात में जो पल्सर बाइक इस्तेमाल हुआ था. उसे बरामद किया और फिर तीन बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया । जिन तीन लुटेरों को गिरफ्तार किया गया है उसमें एक का नाम सोनू कुमार उर्फ सोनू कालिया उर्फ कौशलेन्द्र कुमार उर्फ आर्यन है.. जो हिलसा थाना क्षेत्र के लोहंडा गांव के रहने वाले हरमुन पासवान का बेटा है। दूसरे का नाम अजहर अनवर है वो सोहसराय थाना क्षेत्र के बसार बिगहा के रहने वाले खुर्शीद आलम का बेटा है और तीसरे बदमाश का नाम मृत्युंजय कुमार उर्फ राधे है जो बिहारशरीफ के मुरौरा गांव के रहने वाले मुकेश कुमार का बेटा है ।

क्या क्या बरामद
लुटेरों ने गल्ला व्यापारी अनिल कुमार से हथियार के बल पर 25 हजार कैश, दो सोने की अंगूठी, सोने का चेन और तीन मोबाइल लूट लिया था । जिसमें से पुलिस ने लूटे गए रुपए में से 11 हजार 200 रुपए बरामद कर लिया है । साथ ही लूटे गए दो मोबाइल भी बरामद कर लिया है ।

दो और तलाश जारी
बिहारशरीफ के सदर डीएसपी नुरुल हक ने बताया कि बदमाशों की गिरफ्तारी के लिए जो टीम गठित की गई थी। उसमें सोहसराय थाना के थानाध्यक्ष राजमणि, दारोगा संजीव कुमार, जवाहर प्रसाद समेत सोहसराय थाना के सिपाही शामिल थे। पुलिस के सामने अब चैलेंज दो अन्य बदमाशों को गिरफ्तार करना है। साथ ही लूट में इस्तेमाल किया गया हथियार को भी जब्त करना एक बड़ी चुनौती है । पुलिस का कहना है कि इसके लिए छापेमारी की जा रही है और जल्द ही बाकी दोनों को भी सलाखों के पीछे पहुंचा दिया जाएगा

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In अपराध

Leave a Reply

Check Also

योगी राज में मारा गया एक और माफिया.. कई जिलों में धारा 144 लगाई गई

कहा जाता है कि यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ माफिया के लिए काल हैं.. उनके राज में कोई…