बाबा बागेश्वर को धमकी देने वाला गिरफ्तार.. इंटरपोल की मदद से पकड़ा.. पूरी फिल्मी है कहानी

0

बाबा बागेश्वर उर्फ पंडित धीरेंद्र शास्त्री को जान से मारने की धमकी देने वाला गिरफ्तार हो गया है । गिरफ्तार युवक बिहार के नालंदा का निकला है । उसकी गिरफ्तारी भी कुछ फिल्मी अंदाज में हुई है । गिरफ्तार युवक कौन है और क्यों उसने बाबा बागेश्वर को धमकी दी थी। इसके बारे में आपको बताएंगे। लेकिन पहले पूरा मामला समझ लीजिए कि क्या हुआ क्या था

क्या है पूरा मामला
दरअसल, मध्यप्रदेश के छत्तरपुर के बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर पंडित धीरेन्द्र शास्त्री को ई-मेल के जरिए जान से मार डालने की धमकी मिली थी। ये धमकी 19 अक्टूबर 2023 को बागेश्वर धाम की आधिकारिक ID पर मेल किया गया था । मेल करने वाले ने खुद को लॉरेंस विश्नोई गैंग का मेंबर बताया था और धमकी देते हुए 10 लाख रुपए फिरौती मांगी थी। पैसे नहीं देने पर जान से मार की धमकी दी गई थी।

इसे भी पढ़िए-नालंदा में 26 पुलिस पदाधिकारियों का तबादला. जानिए किसे कहां भेजा गया?

20 अक्टूबर को FIR
इस मामले में बागेश्वर धाम की ओर से मुकदमा दर्ज कराया गया था। ये FIR मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले के बमीठा थाना में दर्ज कराई गई थी। 20 अक्टूबर 2023 को जैसे ही FIR दर्ज कराई गई.. मध्यप्रदेश पुलिस फ़ौरन एक्शन में आ गई और जांच शुरू कर दी । लेकिन पुलिस को कोई क्लू नहीं मिल रहा था

इसे पढ़िए-बिहारशरीफ में 4 सड़कों का होगा जीर्णोद्धार.. पहले चलेगा बुलडोजर.. फिर बनेगा रोड.. जानिए कौन कौन

आकाश ने दोबारा मेल किया
दो दिन तक जब बागेश्वर धाम की तरफ से कोई जवाब ना मिला तो आरोपी ने 22 अक्टूबर 2023 को एक बार फिर ई-मेल कर धमकी दी। उसने लिखा अब तुम्हारा टाइम खत्म हो गया है । आखिरकार छतरपुर पुलिस ने इंटरपोल से सम्पर्क किया। पुलिस ने इसके लिए स्विट्जरलैंड तक जाँच एजेंसी से मदद मांगी. क्योंकि ये पूरा ई मेल डॉर्क नेट के जरिए किया जा रहा था ।

इसे भी पढ़िए-चलो चलें.. बाबा के दरबार चलें

डार्क नेट की मदद से धमकी और रंगदारी के ई-मेल भेजे गए थे। एमपी पुलिस ने आइपी एड्रेस की जानकारी लेने के लिए केंद्रीय जांच एजेंसी NIA की मदद ली। जिसके बाद इंटरपोल से मदद ली गई तो पता चला कि ये ई-मेल पटना से भेजा गया है। जांच में ये भी पाया गया का जिसने धमकी भरा ईमेल भेजा है उसका रवि बिश्नोई या लारेंस बिश्नोई गिरोह से सीधा ताल्लुक नहीं है।

पटना से गिरफ्तार
मध्यप्रदेश पुलिस की एक टीम पटना पहुंची और कंकड़बाग के अशोक नगर से उसे गिरफ्तार किया गया. पूछताछ में उसने बताया कि स्पेशल एप के जरिए मेल किया था.

नालंदा का रहने वाला
आकाश मूल रूप से बिहार के नालंदा जिले के परवलपुर थाना क्षेत्र के शंकरडीह गांव का रहने वाला है। फिलहाल वो राजधानी पटना के कंकरबाग इलाके में रह रहा था। वो कपड़े का कारोबार करता है। उसने इंटर तक की पढ़ाई की है। कंप्यूटर की अच्छी जानकारी होने के साथ नए सॉफ्टवेयर के बारे में जानने की जिज्ञासा भी है। उसका कोई आपराधिक इतिहास नहीं मिला। पुलिस ने आरोपी के उस मोबाइल को बरामद कर लिया है जिसे जाँच के लिए फोरेंसिक लैब में भेजा गया है। उसके खिलाफ IPC की धारा 387 और 507 के तहत कार्रवाई की गई है। साथ ही कोर्ट ने जेल भेज दिया है ।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In अपराध

Leave a Reply

Check Also

बिहार में महागठबंधन को एक और बड़ा झटका.. एक और विधायक का विकेट गिरा.. जानिए पूरा मामला

बिहार में महागठबंधन को एक और बड़ा झटका लगा है । पहले स्पीकर की कुर्सी गई.. फिर फ्लोर टेस्ट…