बिहारशरीफ में छात्रों के समर्थन में प्रदर्शन.. आंदोलनकारियों ने फूंका पुतला.. जानिए मामला

0

बिहारशरीफ के हॉस्पिटल मोड पर छात्रों के समर्थन में विरोध प्रदर्शन किया गया और शिक्षा मंत्री समेत अधिकारियों का पुतला फूंका गया । साथ चयनित छात्रों को सीधे नियुक्ति पत्र देने की मांग की।

आरजेडी का प्रदर्शन
दरअसल, नालंदा जिला राष्ट्रीय जनता दल की छात्र इकाई ने BSTET 2019 में उत्तीर्ण छात्रों के समर्थन में प्रदर्शन किया । इस दौरान आरजेडी के छात्रसंघ ने बिहार के शिक्षा मंत्री विजय चौधरी और बिहार बोर्ड के अध्यक्ष के खिलाफ अनिमितता का आरोप लगाया और उनका पुतला फूंका।

इसे भी पढ़िए-बिहारशरीफ स्टेशन और बस स्टैंड में यात्रियों को लूटने वाले गिरोह का भंडाफोड़

क्या हैं आरोप
अभ्यर्थियों का कहना है कि 12 मार्च 2021 को BSTET का जो रिजल्ट जारी किया गया था उसमें पेपर वन में 16068 और पेपर टू में 8531 परीक्षार्थी सफल घोषित किए गए थे। यानि कुल 24599 अभ्यर्थी सफल घोषित किए गए हैं। जो रिक्ति से कम है तथा सभी सफल अभ्यर्थियों की नौकरी पक्की है। 21 जून 2021 को 3 शेष विषय उर्दू, संस्कृत एवं विज्ञान के परिणाम घोषित किए गए। उसी परिणाम के साथ पूर्व घोषित परिणामों को शामिल कर मेरिट लिस्ट जारी किया गया। जिसमें इन मेरिट तथा नॉट इन मेरिट के नाम पर आधे से अधिक सफल अभ्यर्थियों को नॉट इन मेरिट कर दिया गया।छात्र नेताओं का कहना था कि जिसका भी रिजल्ट आया है उन सभी को नियुक्ति पत्र दिया जाए। नहीं तो पूरे प्रदेश में प्रदर्शन किया जाएगा ।

इसे भी पढ़िए-नालंदा में ट्रक ने रोका ट्रेन का रास्ता.. दो घंटे खड़ी रही हमसफर और श्रमजीवी एक्सप्रेस.. जानिए क्यों

शिक्षा मंत्री के बयान पर ऐतराज
जबकि शिक्षा मंत्री के बयान के अनुसार रिक्ति से भी कम परिणाम घोषित होने के बावजूद आधे से अधिक नॉट इन मेरिट में कैसे हो गए हैं। जबकि बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा जारी कुल 30676 सफल अभ्यर्थी का परिणाम सार्वजनिक क्यों नहीं कर रही है। विषय वार एवं कोटि बार सभी विषयों का परिणाम पोस्ट सार्वजनिक करना चाहिए। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा काउंटर एफिडेविट in cwjc 8520/2020 के द्वारा एसटीइटी को पात्रता परीक्षा न मान कर प्रतियोगी परीक्षा स्वीकार है। जबकि शिक्षा मंत्री बिहार बोर्ड एवं प्रधान सचिव अब एसटीइटी का मतलब सिर्फ पात्रता परीक्षा बता रहे हैं। जो कि न्याय संगत नहीं है। एसटीइटी 2019 का विज्ञापन 37340 पदों के लिए निकाला गया था जो एक फ्रेश बहाली है। जिसमें चरण से कोई मतलब नहीं है। इसे सीधे नियुक्ति पत्र दिया जाना है।

कौन कौन मौजूद
इस दौरान आरजेडी के छात्र नेता मणिशंकर कुमार,चंदन यादव,रोशन भाई यादव, नीतीश यादव, विक्की यादव, देवराज गोप,चंद्रमणि कुमार,सौरभ कुमार,रुदल कुमार, उपेंद्र यादव आदि छात्र नेता मौजूद रहे।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In राजनीति

Leave a Reply

Check Also

नालंदा में रफ्तार का कहर.. बेकाबू ट्रक ने तीन युवकों रौंदा.. तीनों की मौत

नालंदा जिला में एक बार फिर तेज रफ्तार ने तीन युवकों की जान ले ली है । बताया जा रहा है कि ब…