CBSE और ICSE बोर्ड की 12वीं की परीक्षा रद्द, जानिए कैसे तैयार होगा रिजल्ट

0

देशभर के 12वीं क्लास के करीब 14 लाख छात्रों का इंतजार खत्म हो गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सीबीएसई 12वीं बोर्ड की परीक्षा को रद्द करने का फैसला लिया है । साथ छात्रों के रिजल्ट को लेकर भी आदेश जारी किया गया है । सीबीएसई 12 वीं बोर्ड की परीक्षा रद्द होने के बाद ICSE बोर्ड ने भी 12वीं बोर्ड की परीक्षा को रद्द करने का फैसला लिया है । आज शाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की अध्यक्षता में हुई 12वीं बोर्ड की परीक्षा को लेकर बैठक हुई। जिसमें रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, गृह मंत्री अमित शाह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण समेत तमाम कई कैबिनेट मंत्री और शिक्षा मंत्रालय के अधिकारी के अलावा पीएमओ के अधिकारी शामिल हुए। बैठक के बाद केंद्र सरकार और केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने क्लास 12 बोर्ड एग्जाम रद्द करने का फैसला किया है। इससे पहले केंद्र सरकार ने राज्यों से 12वीं की परीक्षा को लेकर सुझाव मांगे थे। जिसमें दिल्ली समेत कुछ राज्य सरकारों ने भी 12वीं बोर्ड परीक्षा रद्द करने की मांग की थी।

छात्रों का हित सर्वोपरि
सीबीएसई 12वीं की परीक्षा रद्द करने के फैसले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने कहा कि ‘स्टूडेंट्स का स्वास्थ्य और उनकी सुरक्षा सर्वप्रथम प्राथमिकता है, जिससे कोई समझौता नहीं किया जा सकता। एग्जाम को लेकर स्टूडेंट्स, पैरेंट्स और टीचर्स में जो तनाव की स्थिति उत्पन्न हो गई है, उसे खत्म करना चाहिए। सभी भागीदारों के इस मामले में संवेदनशीलता दिखानी चाहिए।’ प्रधानमंत्री ने कहा कि ‘कोविड के हालात अस्थिर हैं। देश के कुछ राज्यों में जहां माइक्रो-कंटेनमेंट जोन बनाकर संक्रमण का दर कम हो रहा है, वहीं कुछ जगहों पर अब भी लॉकडाउन लगा है। ऐसी परिस्थिति में पैरेंट्स, टीचर्स और स्टूडेंट्स खुद भी स्वास्थ्य को लेकर चिंतित हैं। ऐसे तनावपूर्ण माहौल में स्टूडेंट्स पर बोर्ड परीक्षा में शामिल होने का दबाव नहीं डालना चाहिए।’

कैसे तैयार होगा
12वीं बोर्ड की परीक्षा रद्द होने के बाद ये सवाल उठने लगा है कि छात्रों को किस आधार पर मार्क्स मिलेंगे और रिजल्ट कैसे बनेगा? जिसपर सीबीएसई ने कहा है कि समय के अनुसार उचित क्राइटीरिया के तहत मार्किंग की जाएगी और रिजल्ट तैयार होगा। प्रधानमंत्री मोदी की बैठक में शामिल केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि छात्रों का रिजल्ट इंटनल अससेमंट के आधार पर तैयार किया जाएगा

छात्रों के पास परीक्षा का विकल्प
साथ ही प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछली बार की तरह इस बार भी छात्रों को परीक्षा देने का विकल्प भी दिया जाएगा। वैसे छात्र जो अपने मार्क्स से संतुष्ट नहीं होंगे वे बाद में एग्जाम देने का विकल्प चुन सकेंगे और हालात सामान्य होने पर परीक्षा कराई जाएगी ।

सरकार के फैसले का स्वागत
केंद्र सरकार के फैसले का छात्रों, राजनीतिक दलों और शिक्षाविदों ने स्वागत किया है । क्योंकि कोरोना काल में अभिभावक भी परीक्षा के पक्ष में नहीं थे। वहीं कई राज्य सरकारों का कहना था कि जब तक बच्चों का वैक्सीनेशन पूरा नहीं हो जाता है तब तक परीक्षा नहीं होनी चाहिए

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In खास खबरें

Leave a Reply

Check Also

नालंदा में चलती स्कॉर्पियो में भीषण आग.. ड्राइवर की गलती से स्वाहा हुई गाड़ी

नालंदा जिला में चलती स्कॉर्पियो गाड़ी में भीषण आग लग गई। जिसके बाद सड़क पर कुछ देर के लिए …