बिहार में बाढ़ समेत 4 और नए जिले बनेगें.. जानिए कहां कहां ?

0

बिहार में 4 और नए जिले का गठन हो सकता है. जिसके बाद सूबे में जिलों की संख्या बढ़कर 42 हो जाएगा । खास बात ये है कि जिन 4 नए जिलों का गठन होने वाला है उसमें एक नाम पटना जिले का बाढ़ भी है । इस बात के संकेत खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दी है । इसका गठन विधानपरिषद चुनाव के बाद किया जाएगा ।

नीतीश कुमार ने क्या कहा
दरअसल, मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने रविवार को जनसंपर्क यात्रा के दौरान बाढ़ में थे। इस दौरान लोगों ने बाढ़ को जिला बनाने की मांग की । जिसपर मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार बिहार में नये जिलों के गठन पर विचार कर रही है. साथ ही कहा कि विधानपरिषद चुनाव के बाद नए जिलों के गठन पर फैसला लिया जाएगा ।

बाढ़ से मेरा पुराना नाता
संपर्कयात्रा के दौरान सीएम नीतीश कुमार बाढ़ में कार्यकर्ताओं और पुराने साथियों से मिल रहे हैं. मुख्यमंत्री नीतीश ने कहा कि सबसे पहले हम यहीं से न सांसद बने थे. जब हम एमएलए थे तब इस इलाके में आ कर घूमते थे. लोगों की समस्या सुनते थे.

इसे भी पढ़िए-बीजेपी के जीतने पर युवक ने अपने सारे ऑरिजिनल सर्टिफिकेट जला डाला.. जानिए क्यों?

बाढ़ को नहीं छोड़ेंगे
मुख्यमंत्री ने लोगों से बातचीत में कहा कि बाढ़ से तो मेरा पुराना लगाव रहा है. 1989 से हम लगातार घूमते रहे हैं औऱ काम करते रहे हैं. अब यहां के लोगों की जो इच्छा है उसको तो पूरा करेंगे ही न हम. जिला की मांग कब से की जा रही है. जब सब काम कर रहे हैं तो इसको कैसे छोड़ देंगे. चुनाव बाद जब सरकार इस पर फैसला लेगी तब बाढ़ को नहीं भूला जायेगा. जब जिले का गठन करेंगे तो उस वक्त बाढ़ को भी जिला घोषित कर देंगे.

इसे भी पढ़िए-बिहार में कहां-कहां नई जेल बनाएगी नीतीश सरकार.. जानिए

संसदीय सीट था बाढ़
साल 2008 तक बाढ़ लोकसभा सीट के रूप में जाना जाता था। जिसमें नालंदा जिले के चंडी और हरनौत विधानसभा क्षेत्र भी इसी के अंतर्गत आते थे, लेकिन परिसीमन में बाढ़ सिर्फ विधानसभा क्षेत्र बनकर रह गया और चंडी विधानसभा का अस्तित्व खत्म हो गया।

बाढ़ को जिला बनाने की पुरानी है मांग
बाढ़ को जिला बनाने का संघर्ष 70 के दशक में शुरू हुआ और 22 मार्च 1991 को संयुक्त बिहार का 51वां जिला बनाने की घोषणा हुई। 1 अप्रैल को इसका औपचारिक उद‌्घाटन तत्कालीन डीएम अरविंद प्रसाद ने किया, लेकिन 2 अप्रैल 1991 को ही यह फैसला रद्द हो गया।

इसे भी पढ़िए-पटना हाईकोर्ट में 12वीं पास के लिए बंपर वैकेंसी, 81 हजार तक सैलरी

बाढ़ से सांसद रहें हैं नीतीश कुमार
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की संसदीय यात्रा की शुरुआत बाढ़ लोकसभा क्षेत्र से ही हुई थी। वे पहली बार साल 1989 में बाढ़ लोकसभा सीट से ही सांसद चुने गए और 1999 तक लगातार पांच बार जीते। हालांकि साल 2004 में वे आरजेडी के विजय कृष्ण से हार गए। हालांकि, 2005 में नीतीश कुमार बिहार के मुख्यमंत्री बन गए। 2008 में परिसीमन के दौरान बाढ़ लोकसभा क्षेत्र का अस्तित्व ही समाप्त हो गया।

और कौन कौन जिले बनेंगे
बिहार में अभी कुल 38 जिले हैं. कहा जा रहा है कि सरकार चार नये जिलों के गठन पर विचार कर रही है. अगर बाढ़ को जिला का दर्जा मिल जायेगा, तो बिहार में वह 39वां जिला होगा. इसके अलावा नौगछिया, बगहा और झंझारपुर को जिला बनाने की मांग भी काफी दिनों से हो रही है. इस संबंध में उपमुख्यमंत्री की अध्यक्षता में एक कमेटी का गठन किया गया है. माना जा रहा है कि उस कमेटी की बैठक चुनाव के बाद होगी.

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In खास खबरें

Leave a Reply

Check Also

नीतीश कुमार के दुश्मन नंबर वन को अमित शाह ने दिया Z कैटगरी की सुरक्षा.. जानिए पूरा मामला

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के दुश्मन नंबर वन को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बड़ा…