छापेमारी के दौरान थानाध्यक्ष की गोली मारकर हत्या.. जानिए पूरा मामला

0

बिहार में क्राइम का ग्राफ एक बार फिर बढ़ता जा रहा है.. अपराधियों के हौसले किस कदर बुलंद हैं इसका अंदाजा आप इस मामले से लगा सकते हैं कि एक थानाध्यक्ष की गोली मारकर हत्या कर दी गई..

नालंदा के मवेशी गैंग पर शक
बताया जा रहा है कि मवेशी चोर गैंग ने थानाध्यक्ष नंद किशोर यादव को गोली मार दी.. जिसमें उनकी मौत हो गई.. अब तक की जांच में ये बात सामने आई है कि जिस गैंग पर मवेशी तस्करी का आरोप है. वो गैंग नालंदा से ऑपरेट होता है।

कहां का है मामला
मामला समस्तीपुर जिला के मोहनपुर थाना क्षेत्र की है.. जहां के थानाध्यक्ष नंद किशोर यादव की अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी।

छापेमारी के दौरान मर्डर
बताया जा रहा है कि मोहनपुर के थानाध्यक्ष को इनपुट मिला था कि 8-10 मवेशी चोर इक्ट्ठा होकर वारदात को अंजाम देने वाले हैं। जिसके बाद थानाध्यक्ष नंद किशोर यादव पुलिस टीम के साथ छापेमारी करने पहुंचे थे।

सिर में मारी गोली
इसी दौरान अपराधियों ने पुलिस टीम पर फायरिंग कर दी.. जिसमें एक गोली थानाध्यक्ष नंद किशोर यादव के सिर में जा लगी. जिससे उनकी मौत हो गई। गोली नंद किशोर यादव के आंख के ऊपर लगी थी।

इलाज के दौरान मौत
नंद किशोर यादव को इलाज के लिए तुरंत अस्पताल ले जाया गया। लेकिन वहां उनकी मौत हो गई। समस्तीपुर एसपी विनय तिवारी ने नंद किशोर यादव की मौत की पुष्टि की है।

इसे भी पढ़िए-नीतीश के नालंदा में एक बार फिर बैंक डकैती.. गन प्वाइंट पर बदमाशों ने लाखों रुपए लूटे.. जानिए पूरा मामला

क्या मिला था इनपुट
दरअसल, मोहनपुर थानाक्षेत्र में पिछले 1 हफ्ते से लगातार भैंस चोरी की वारदात सामने आ रही थी । जिसके बाद थानाध्यक्ष नंदकिशोर यादव ने चोरी के आरोप में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया था। जब आरोपी से कड़ाई से पूछताछ की गई.. तो पुलिस को क्लू मिला कि.. नालंदा का एक गैंग मवेशी चोरी की वारदात को अंजाम दे रहा है..

मोबाइल नंबर से ट्रैक हुआ लोकेशन
जांच के दौरान मोहनपुर पुलिस को कुछ आरोपियों के मोबाइल नंबर भी मिले थे। पुलिस ने उन मोबाइल नंबरों को ट्रैक किया तो पता चला कि कुछ मवेशी तस्कर.. फिर से वारदात को अंजाम देने के लिए इक्ट्ठा हुए हैं । जिसके बाद छापेमारी कर उन्होंने तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया और एक ट्रक और एक पिक अप वैन भी बरामद किया..

कुछ और आरोपियों के नाम बताए
चोरी के आरोप में गिरफ्तार तीन लोगों ने पुलिस को कुछ और गैंग मेंबर्स के बारे में बताया। जिसके बाद बाकी गैंग मेंबर्स को पकड़ने के लिए थानाध्यक्ष नंद किशोर यादव छापेमारी करने गए थे। लेकिन इसी दौरान वो मवेशी तस्कर की गोली का शिकार हो गए ।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In अपराध

Leave a Reply

Check Also

योगी राज में मारा गया एक और माफिया.. कई जिलों में धारा 144 लगाई गई

कहा जाता है कि यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ माफिया के लिए काल हैं.. उनके राज में कोई…