बिहार में छिपा है सोना,क्रोमियम,कोयला और निकिल का भंडार.. जहां कहां-कहां होगा खदान का खनन

0

बिहार जल्द ही बीमारू राज्य से बाहर निकल सकता है। क्योंकि बिहार में सोना, निकिल, क्रोमियम, पोटाश और कोयला का खनन शुरू होने वाला है । बताया जा रहा है कि बिहार में सोना का भारी भंडार है ।

देश का करीब 44 फीसदी सोना भंडार
बिहार में देश के कुल सोना का 44 प्रतशित भंडार केवल बिहार में छिपा है । इस बात की जानकारी विधान परिषद में 2022-23 के बजट पर चर्चा के दौरान खान एवं भूतत्व विभाग के मंत्री जनक राम ने दी. उन्होंने कहा कि केंद्रीय मंत्री ने भी लोकसभा में कहा कि जीएसआइ ने यह पुष्टि की है कि देश का करीब 44 फीसदी सोना जमुई में हो सकता है.

कहां है कोयले का खान
बताया जा रहा है कि भागलपुर के पीरपैंती और कहलगांव के आसपास मौजूद कोयले का ग्रेड जी-12 उपलब्ध है. यहां करीब 850 मिलियन टन कोयले के भंडार का अनुमान है.इन खनिज पदार्थों को निकालने के लिए टेंडर किया जायेगा. करीब एक साल पहले निकिल, क्रोमियम और पोटैशियम पाये जाने के लिए विभिन्न स्तर पर सर्वे हुआ था. अब केंद्र सरकार ने इसके खनन की जिम्मेदारी राज्य सरकार को सौंप दी है.

इसे भी पढ़िए-बिहार में 5 केंद्रीय विद्यालय में अलग-अलग पदों के लिए सीधी भर्ती.. जानिए कहां कब होगी बहाली

222. 88 मिलियन टन सोना की संभावना
जमुई जिले के सोनो क्षेत्र में 35.6 टन धातु अयस्क सहित 222. 88 मिलियन टन स्वर्ण धातु से संपन्न भंडार मिलने की संभावना है. लोकसभा के शीतकालीन सत्र के दौरान यह जानकारी मिली कि बिहार अकेले पूरे देश का 44 फीसदी सोना दे सकता है. इससे राज्य को फायदा होगा.

इसे भी पढ़िए-मगध एक्सप्रेस में व्यापारी से 55 लाख की चोरी, RPF के दो जवान गिरफ्तार

औरंगाबाद में निकिल का भंडार
जानकारी के अनुसार गया और औरंगाबाद जिले की सीमा पर मदनपुर प्रखंड के डेंजना और आसपास के इलाकों में करीब आठ वर्ग किमी क्षेत्र में निकिल पाया गया है. इसका इस्तेमाल हवाई जहाज और मोबाइल में बड़े स्तर पर किया जाता है.

इसे भी पढ़िए-बिहार समेत देशभर में खुलेंगे 21 नए सैनिक स्कूल.. जानिए कहां-कहां खुलेंगे सैनिक स्कूल

रोहतास जिले में पोटाश की संपन्नता
वहीं, रोहतास जिले में करीब 25 वर्ग किमी इलाके में पोटाश पाया गया है. इसमें रोहतास जिले का नावाडीह प्रखंड में 10 वर्ग किमी, टीपा प्रखंड में आठ किमी और शाहपुर प्रखंड में सात किमी का इलाका शामिल है. पोटाश का बड़े पैमाने पर औषधि व रासायनिक खाद में इस्तेमाल होता है.

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In बढ़ता बिहार

Leave a Reply

Check Also

नालंदा में ट्रेन से कटकर एक युवक और एक युवती की मौत.. जानिए पूरा मामला

नालंदा जिला में बख्तियारपुर-राजगीर रेलखंड पर ट्रेन से कटकर दो लोगों की मौत हो गई है । जिसम…