वीरता मेडल से बिहार का बेटा सम्मानित, 4 आतंकियों को मार गिराया था

0

कहा जाता है न कि एक बिहारी सौ पर भारी। इस कहावत को चरितार्थ कर दिखाया है बिहार का बेटा सोनू गौतम ने । जिन्होंने जान की परवाह किए बिना चार आतंकियों को मार गिराया था। भारत सरकार भी उनकी वीरता का कायल हो गई है। शौर्य दिवस के मौके पर राष्ट्रपति ने उन्हें वीरता मेडल से सम्मानित किया है। ये पुरस्कार उन्हें भारत सरकार के गृह सचिव अजय भल्ला के हाथों प्रदान किया गया।

कौन हैं सोनू गौतम
सोनू गौतम बिहार के बक्सर जिला के रहने वाले हैं। उनका पैतृक घर इटाढ़ी प्रखंड के चिलहर गांव में है। उनके पिता का नाम रामनाथ सिंह । सोनू गौतम केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल यानि CRPF में सिपाही के पद पर तैनात हैं। उनकी बहादुरी के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने वीरता मेडल से सम्मानित किया है।

इसे भी पढ़िए-पेट्रोल पंप पर लूट.. विरोध करने पर कैशियर की बेरहमी से पिटाई

4 आतंकियों को मार गिराया था
बात 23 जून 2019 की है। जब जम्मू कश्मीर के शोपियां में आतंकियों के एक जगह छिपे होने की सूचना सुरक्षाबलों को मिली। सुरक्षाबल के पहुंचते ही आतंकियों ने भागने की कोशिश की। जिसके बाद सोनू गौतम तथा उनके एक और साथी संजीव कुमार ने आतंकियों को चेतावनी दी और सरेंडर करने को कहा

इसे भी पढ़िए-बिहार की बेटी माउंट एवरेस्ट पर तिरंगा फहराने को बेकरार.. मिशन एवरेस्ट को पूरा करना है सपना

आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी
जैसे ही सोनू गौतम ने आतंकियों को सरेंडर करने को कहा वैसे ही दूसरी तरफ से आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी। जिसके बाद सोनू गौतम ने बहादुरी और शौर्य का प्रदर्शन करते हुए, बिना डरे आतंकियों को जवाब देते रहे और चार दुर्दांत आतंकवादियों को मार गिराया। जिसके पास से भारी मात्रा में गोला-बारूद बरामद हुए।

इसे भी पढ़िए-10वीं पास के लिए बंपर वैकेंसी.. बिना परीक्षा रेलवे में मिलेगी नौकरी.. जानिए कैसे

गांव में खुशी का माहौल
सोनू गौतम को इस बहादुरी के लिए राष्ट्रपति द्वारा गैलेंट्री अवार्ड प्रदान किया गया। पुरस्कार की घोषणा 20 जनवरी को ही की जा चुकी थी। 26 जनवरी को राष्ट्रपति के द्वारा उनके सम्मान पत्र पर हस्ताक्षर किए गए। अब केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला के हाथों प्रदान किया गया।

पिता को बेटे पर गर्व
अपने बेटे की बहादुरी और वीरता पुरस्कार मिलने पर पिता रामनाथ सिंह गर्व महसूस कर रहे हैं। पिता रामनाथ सिंह ने कहा कि उनका बेटा सोनू बचपन से ही साहसी था।और उसका सपना सेना में भर्ती होकर देश सेवा करना था।
बक्सर के मिट्टी के लाल को सम्मानित किए जाने पर जिले में खुशी की लहर है। परिजनों के साथ-साथ जिले के लोग भी बधाई दे रहे हैं। नालंदा लाइव (Nalanda Live) भी अपने पाठकों की ओर से बिहार के सपूत की बहादुरी को सलाम करता है ।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In हमारे हीरो

Leave a Reply

Check Also

नालंदा में ट्रेन से कटकर एक युवक और एक युवती की मौत.. जानिए पूरा मामला

नालंदा जिला में बख्तियारपुर-राजगीर रेलखंड पर ट्रेन से कटकर दो लोगों की मौत हो गई है । जिसम…