बिहार में ज़हरीली शराब पीने से16 लोगों की मौत, डिप्टी सीएम का है इलाका

0

बिहार में पूर्ण शराबबंदी को लेकर अक्सर सवाल उठते हैं। इस बीच ज़हरीली शराब पीने से 16 लोगों की मौत हुई है । इस बात की पुष्टि जिले के डीएम ने की है। उन्होंने बताया है कि देउरवा जहरीली शराब कांड में 16 लोगों की जान अब तक जा चुकी है ।

क्या है पूरा मामला
पश्चिम चंपारण के लौरिया प्रखंड के देवराज पंचायत के देउरवा गांव की है। जहां जहरीली शराब पीने से अब तक 16 लोगों की मौत हुई है। बताया जा रहा है कि मंगलवार शाम को गांव के लोगों ने शराब पी थी। जिसके बाद लोगों की हालत बिगड़ने लगी। जिसके बाद बीमार लोगों को इलाज के लिए प्राइवेट अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। गांव के लोग डरे हुए हैं । गांव के लोगों ने मीडियाकर्मियों और पुलिसकर्मियों पर हमला किया

पांच लोगों को हिरासत में लिया
घटना के बाद इलाके में दहशत का माहौल है। ये इलाका डिप्टी सीएम रेणु देवी का बताया जाता है । पुलिस ने इस मामले में जांच शुरू कर दी है। पूछताछ के लिए पांच लोगों को हिरासत में लिया है। उपमुख्यमंत्री रेणु देवी के मुताबिक पश्चिमी चंपारण के एक गांव में संदिग्ध हालात में लोगों की मौत होने की जानकारी मिली है। मामले की जांच शुरू कर दी गई है। हालांकि, स्थानीय लोग इस संबंध में कुछ भी बोलने के लिए तैयार नहीं हैं। हम हालात पर बेहद करीब से नजर बनाए हुए हैं।

इसे भी पढ़िए-बिहार में खत्म होगा BDO और DDC का रुतबा.. जानिए क्यों हुई पावर में कटौती

डीएम ने क्या कहा
पश्चिम चंपारण के जिलाधिकारी कुंदन कुमार के मुताबिक,दो लोगों की मौत बीमारी से होने की संभावना है। जबकि 14 मृतकों में से चार अन्य मृतकों के परिजन द्वारा जहरीली शराब पीने से मृत्यु होना स्वीकार किया गया। शेष मृतक के परिजनों द्वारा शराब की बात नहीं स्वीकार की गई। लेकिन, ग्रामीणों के द्वारा शराब पीने से तबीयत बिगड़ने के बाद मृत्यु होने की बात बताई गई, जिसका विस्तृत अनुसंधान पुलिस के द्वारा किया जा रहा है। कांड दर्ज करते हुए पांच को हिरासत में भी लिया गया है। वहीं निजी नर्सिंग होम में चिकित्सारत देउरवा ग्राम के मुमजात के भाई द्वारा भी मुमजात के द्वारा शराब के सेवन की बात बतायी गई है। सभी मृतक के शवों का अंतिम संस्कार उनके परिजनों द्वारा पूर्व में ही कर दिया गया है तथा इसकी कोई भी सूचना किसी भी स्तर पर नहीं दी गई है।

DIG बोले- कार्रवाई की जा रही है
चंपारण प्रक्षेत्र के DIG ललन मोहन प्रसाद ने कहा है कि केस हुआ है, केस के आधार पर कार्रवाई की जा रही है। इस मामले में जो भी संलिप्त होगा, चाहे वह पदाधिकारी हो या कर्मी। उन्हें चिह्नित कर कार्रवाई की जाएगी। वहीं, बेतिया के प्रभारी एसपी किरन कुमार जाधव ने कहा कि इलाज करा रहे और भी लोगों की खोज की जा रही है। उनसे पूछताछ की जा रही है। गांवों से भी सबूत जुटाए जा रहे हैं। शराब से संबंधित सामानों की भी छापेमारी में खोज की जा रही है।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In अपराध

Leave a Reply

Check Also

चपरासी से TTE में हुआ प्रमोशन तो बन गया ‘नरपिचाश’… जानिए पूरी वारदात

नालंदा जिला में महज एक शख्स महज कुछ पैसे के लिए नरपिचाश बन गया। जिसके साथ सात जन्मों तक सा…