बॉयलर फटने से नालंदा के 4 लोगों की मौत.. गांव में मातम.. जानिए पूरा मामला

0

केमिकल फैक्ट्री में बॉयलर फटने से 6 लोगों की मौत हो गई है। जबकि 13 लोग जख्मी हैं। मरने वालों में चार लोग नालंदा जिला के रहने वाले हैं । परिवार पर दुःख का पहाड़ टूट पड़ा है। गांव में मातम पसरा है

क्या है पूरा मामला
आंध्रप्रदेश के एलुरु जिला में केमिकल फैक्ट्री में बॉयलर फटने से आग लग गई। जिसमें नालंदा जिला के रहने वाले चार लोगों की मौत हो गई । जबकि दो लोग बुरी तरह झुलस गए हैं ।

मृतकों में कौन-कौन
हादसे में जिन चार लोगों की मौत हुई है । उसमें चंडी थाना क्षेत्र के हबीबुल्लाहचक गांव के कारु रविदास और सुभाष रविदास शामिल हैं। साथ ही हरनौत थाना क्षेत्र के रामसंग-डिहरा गांव के मनोज मोची और बसनीमा गांव के अवधेश रविदास भी हादसे में मौत हो गई।

इसे भी पढ़िए-नालंदा के दो प्रखंडों में 5 घंटे गुल रहेगी बिजली..जानिए कहां कहां और कब

घायलों में कौन कौन
हादसे में नालंदा जिला के जो दो लोग घायल हैं उसमें एक हबीबुल्लाहचक गांव के रहने वाले मुनारक पासवान और बसनीमा गांव के रवि रविदास शामिल हैं ।

नीतीश कुमार ने मुआवजे का ऐलान किया
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी हादसे में मारे गए लोगों के लिए 2-2 लाख रुपए और घायलों के लिए 50-50 हजार रुपए की मदद राशि देने का ऐलान किया है

मुआवजे का मरहम
आंध्र प्रदेश के CM वायएस जगन मोहन रेड्डी ने मृतकों के परिजन को 25 लाख रुपए, गंभीर घायलों को 5 लाख और मामूली घायल लोगों को 2 लाख रुपए मुआवजा देने का ऐलान किया है। यानि मृतक के परिजनों को कुल 27 लाख रुपए मिलेंगे 25 लाख आंध्र सरकार से और 2 लाख बिहार सरकार देगी

इसे भी पढ़िए-प्रेमी जोड़े ने की खुदकुशी.. सुसाइड नोट में लिखा- एक साथ चिता जलाना

10 दिन पहले ही गांव से गए थे
मृतक सुभाष रविदास और कारु रविदास के परिवार वालों ने बताया कि 10 दिन पहले ही गांव से दोनों लोग केमिकल फैक्ट्री में काम करने के लिए आंध्र प्रदेश गए थे। दोनों करीब 2011 से ही आंध्र प्रदेश में केमिकल फैक्ट्री में काम करते थे। होली की छुट्टी पर घर आए थे और 10 दिन पूर्व ही फिर से काम पर लौटे थे। किसे पता था कि दोनों की अर्थी ही लौट कर आए। दोनों अपने घर में इकलौते कमाने वाले थे।

इसे भी पढ़िए-बिहारशरीफ नगर निगम के परिसीमन का आदेश.. 5 नए वार्डों का गठन?

5 माह पहले ही गया था कमाने
वहीं, हादसे में हरनौत प्रखंड के रामसंग डीहरा गांव निवासी मनोज मोची और बसनीमा गांव निवासी अवधेश रविदास की भी मौत हो गई है। परिजनों का कहना है कि लॉकडाउन की मार झेलने के बाद करीब पांच महीने पहले ही रोजी रोटी कमाने के लिए मनोज मोची और अवधेश रविदास आंध्र प्रदेश गए थे।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In अपराध

Leave a Reply

Check Also

नीतीश कुमार के दुश्मन नंबर वन को अमित शाह ने दिया Z कैटगरी की सुरक्षा.. जानिए पूरा मामला

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के दुश्मन नंबर वन को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बड़ा…