क्या बीजेपी ने किया है CM नीतीश कुमार का सबसे बड़ा अपमान..? जानिए क्या है इनसाइड स्टोरी

बिहार NDA में ऑल इज वेल नहीं है । कहा जा रहा है कि बीजेपी ने एक बार फिर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को अपमानित किया है । ये उनके लिए अब तक का सबसे बड़ा अपमान है । नीतीश कुमार के अपमान पर जेडीयू चुप है लेकिन बीजेपी ने सफाई दी है। आप पूरी स्टोरी पढ़ने के बाद इस बात का जवाब जरूर दीजिएगा कि बीजेपी की सफाई में दम है या नीतीश कुमार को वाकई अपमानित करने का हथकंडा है ? आइए आपको बताते हैं कि पूरी कहानी क्या है ।

दरअसल, सोन नदी पर कोइलवर में करोड़ों रुपए की लागत से पुल का निर्माण हुआ है । जिसका आज शाम को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए केंद्रीय पथ परिवहन मंत्री नितिन गडकरी उद्घाटन करेंगे। इसके लिए एक पोस्टर बैनर भी जारी हुआ है । जिसमें केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, आरके सिंह , डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद, रेणु देवी, सड़क निर्माण मंत्री नितिन नवीन के साथ बीजेपी के कई और नेताओं और मंत्रियों के नाम हैं । लेकिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार या जेडीयू के किसी नेता का नाम नहीं है। इसे लेकर अब विवाद खड़ा हो गया है ।

विवाद सामने आने पर बीजेपी और बिहार सरकार के मंत्री नितिन नबीन ने सफाई दी है । उन्होंने कहा कि मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार इस उद्घाटन समारोह में निजी वजहों से शरीक नहीं हो सकेंगे. दरअसल, मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार की पत्‍नी की 14 मई को ही पुण्‍यतिथि है, ऐसे में वह कल्‍याण बिगहा के लिए रवाना हो गए हैं. ऐसे में सीएम नीतीश ने उन्‍हें प्रतिनिधि के तौर पर उद्घाटन समारोह में शामिल होने को कहा है.

नितिन नवीन ने बताया कि कुछ कार्यकर्ताओं द्वारा उत्साह में पोस्टर लगा दिया जाता है. आधिकारिक रूप से जो भी पोस्टर और बैनर लगे हैं, उनमें तस्वीर है. बिहार के मंत्री ने कहा कि तस्वीर को लेकर बिहार में कोई सियासत नही होनी चाहिए. नए पोस्‍टर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और नितिन गडकरी के साथ सीएम नीतीश कुमार की भी तस्वीर लगी है.

इस विवाद में जेडीयू ने चुप्पी साध ली है । न तो मुख्यमंत्री की ओर से कोई जवाब आया है और ना ही जेडीयू इस पर कुछ बोलने के लिए तैयार है । ऐसे में माना जा रहा है कि बिहार एनडीए में ऑल इज वेल नहीं है। क्योंकि इससे पहले आरा में आयोजित समारोह में भी नीतीश कुमार को न्योता नहीं दिया गया था। उसमें दलील दी गई थी कि ये पार्टी का कार्यक्रम है सरकार का नहीं इसलिए सीएम नीतीश कुमार को न्योता नहीं दिया गया है । लेकिन इस बार तो कार्यक्रम सरकारी है । विकास गाथा की कहानी है । जिसका नेतृत्व तो बिहार के विकास पुरुष नीतीश कुमार करते हैं । ऐसे में उनका न्योता न अपने आप में अपमानित करने जैसा है। साथ ही तब जब ये पूरा कार्यक्रम वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हो रहा है और पटना के पास है । जहां मुख्यमंत्री नीतीश कुमार खुद रहते हैं ।

आपको बता दें कि कोइलवर में सोन नदी पर 266 करोड़ रुपये की लागत से 1526 मीटर लंबा नया पुल बनाया गया है. नया ब्रिज डाउनस्‍ट्रीम है. कोइलवर में सोन नदी पर बने नए ब्रिज के अपस्ट्रीम लेन पर 10 दिसंबर 2020 से ही वाहनों का परिचालन हो रहा है. प्रशासन के द्वारा अभी केवल आरा की तरफ से वाहनों को पटना की तरफ जाने दिया जा रहा है. पटना की तरफ से वाहनों को पुराने कोइलवर पुल से ही आरा की तरफ जाने दिया जा रहा है. नया पुल बनने से आए दिन लगने वाले ट्रैफिक जाम से भी लोगों को राहत मिलेगी.

Load More Related Articles
Load More By कृष्ण मुरारी स्वामी
Load More In खास खबरें

Leave a Reply

Check Also

नीतीश-तेजस्वी में नजदीकी, लेकिन RCP सिंह ने क्यों बनाई दूरी.. जानिए अंदर की बात

जेडीयू की इफ्तार पार्टी में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और आरजेडी नेता तेजस्वी यादव शामिल हुए।…