‘घूसखोर’ डीएसपी के घर छापेमारी.. संपत्ति जानकर होश उड़ जाएंगे…!

0

एक भ्रष्ट पुलिस अधिकारी कितना पैसा कमा सकता है इसका अंदाजा हम आप शायद नहीं लगा पाएंगे। बिहार पुलिस के डीएसपी पंकज कुमार रावत भी करोड़पति निकले। बालू के खेल में और माफियाओं के सांठगांठ की वजह से इन्होंने खूब काली कमाई की। कैश में इतना धन अर्जित किया कि उससे पटना से लेकर हरियाणा तक में कई प्रॉपर्टी खरीद डाला। रियल स्टेट से लेकर बीमा पॉलिसियों में बड़ा इंवेस्टमेंट किया। इन बातों का खुलासा आर्थिक अपराध शाखा (EOU) की छापेमारी के दरम्यान हुआ।

नालंदा,पटना समेत तीन ठिकानों पर छापेमारी
आर्थिक अपराध शाखा की अलग-अलग टीमों ने निलंबित डीएसपी पंकज कुमार रावत के तीन ठिकानों पर छापेमारी की। आर्थिक अपराध शाखा ने नालंदा के हिलसा में पुश्तैनी घर, पटना में बोरिंग रोड वाले फ्लैट, दानापुर के नासरीगंज वाले घर पर छापेमारी की । जहां से करोड़ों की जायदाद का पता चला।

इसे भी पढ़िए-एक बिहारी सब पर भारी: प्रमोद ने रचा इतिहास, प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति ने दी बधाई

करोड़ों की संपत्ति का खुलासा
पंकज कुमार रावत ने पटना के दीघा बगीचा इलाके में जमीन, एसके पुरी थाना के तहत बोरिंग रोड में फ्लैट, दानापुर के शताब्दी मॉल में दो दुकान और हरियाणा के फरीदाबाद में एक फ्लैट खरीद रखा है। इसके अलावा LIC, बजाज एलियांज में बड़े इंवेस्टमेंट और खरीदी गई प्रॉपर्टी के डॉक्यूमेंट्स टीम के हाथ लगे हैं। काली कमाई के जरिए खरीदी गई सारी प्रॉपर्टी और दूसरे इंवेस्टमेंट, डीएसपी, उनकी पत्नी और परिवार के दूसरे सदस्यों के नाम पर है।

इसे भी पढ़िए-सचेत हो जाइए.. बिहार पहुंचा जानलेवा वायरस,बच्चों को बनाता है शिकार

रावत ने जानकारी छिपाई
डीएसपी पंकज रावत ने हर साल दिए जाने वाले प्रोपर्टी डिक्यरलेशन में काफी सारी जानकारियां नहीं दी थी। बहुत कुछ छिपा रखा था। EOU की टीम ने बरामद प्रॉपर्टी के डिटेल्स और इंवेस्टमेंट का मिलान सरकार को दिए प्रोपर्टी डिक्यरलेशन से किया। ADG नैयर हसैनन खान के अनुसार छापेमारी के दौरान उनकी टीम को कई और महत्वपूर्ण डॉक्यूमेंट्स मिले हैं। इसकी पड़ताल चल रही है।

अवैध कमाई कर बना धनकुबेर
पंकज कुमार रावत की भोजपुर से पहले मुजफ्फरपुर, मोतिहारी, वैशाली, भभुआ और खगड़िया में भी पोस्टिंग रही है। इन जगहों पर भी इन्होंने अवैध तरीके से काफी कमाई की है।

बालू खनन में निलंबित है DSP रावत
पंकज कुमार रावत के उपर लंबे वक्त से नजर रखी जा रही थी। इनके काम-काज के तरीके को वॉच किया जा रहा था। संदिग्धों, विचौलियों और बालू माफियाओं के साथ इनके संबंध बहुत अच्छे थे। बालू के गैर कानूनी धंधे में माफियाओं का यह भरपूर साथ दे रहे थे। इसी वजह से इनके खिलाफ राज्य सरकार ने पहले इंटरनल जांच कराई। रिपोर्ट पॉजिटिव मिली। जिसके बाद 3 सितंबर को EOU ने पटना में आय से अधिक संपत्ति की FIR नंबर 15/2021 दर्ज की। साथ में कोर्ट से सर्च वारंट लिया।

आय से अधिक संपत्ति का मामला
अवैध बालू खनन में संलिप्ताऔर माफियाओं से मिलीभगत के आरोप में आरा सदर के डीएसपी पंकज कुमार रावत को निलंबित किया गया था। आज आर्थिक अपराध शाखा की टीम जैसे उनके आवास पर पहुंची वैसे ही भारी भीड़ जमा हो गई। छापेमारी टीम में शामिल अधिकारी डीएन पासवान ने बताया कि आय से अधिक सम्प्पति का मामला दर्ज कराया गया हैं।इसी मामले में साक्ष्य के लिये जांच और तलाशी की जा गई है ।

नालंदा में है पुश्तैनी घर
निलंबित डीएसपी पंकज कुमार रावत की हिलसा के मियां बिगहा और दारोगा कुआं में घर में है। मियां बिगहा में उनका पुश्तैनी है । हिलसा के दारोगा कुआं में भी घर बना रखा है ।

Load More Related Articles
Load More By Nalanda Live
Load More In पुलिस प्रशासन

Leave a Reply

Check Also

नालंदा में रफ्तार का कहर.. बेकाबू ट्रक ने तीन युवकों रौंदा.. तीनों की मौत

नालंदा जिला में एक बार फिर तेज रफ्तार ने तीन युवकों की जान ले ली है । बताया जा रहा है कि ब…